Wednesday, 20th September, 2017

चलते चलते

अखिलेश की नई शिकायत: पापा मुझे सायकल भी नहीं दिला रहे और प्रतीक को लैंबोर्गिनी दिला दी

16, Jan 2017 By banneditqueen

लखनऊ. समाजवादी खेमे का बाप बेटा ड्रामा कई दिनों से चला आ रहा था। रोज़ लाइमलाइट में रहने के बाद थोड़ा ठंडा हुआ ही था कि कल शाम वापस बवाल खड़ा हो गया। परसों ही खबरों में मुलायम सिंह यादव का दूसरा बेटा प्रतीक खबरों में छाया हुआ था। अचानक से लाइमलाइट अखिलेश से हटकर प्रतीक पर गई जिसे शायद ही कोई जानता है तो अखिलेश उत्सुक हो गए। उन्होनें तुरंत ही न्यूज़ लगाई तो देखा कि हर जगह प्रतीक की लैम्बॉर्घिनी की बात हो रही है।

अखिलेश ने प्रतीक की इस इंस्टा फोटो देखने के बाद जलन के मारे उन्हें ब्लाक कर दिया है
अखिलेश ने प्रतीक की इस इंस्टा फोटो देखने के बाद जलन के मारे उन्हें ब्लाक कर दिया है

एक तरफ जहाँ बाप बेटा सायकल के लिये लड़ रहे हैं वहीं दूसरी तरफ प्रतीक लैम्बॉर्घिनी लेकर घूम रहा है। खबर देख कर अखिलेश आग बबूला हो गए और तुरंत ही पिता मुलायम के कमरे में पहुँचे। कमरे में घुसते ही अखिलेश बोले “यह सरासर नाइंसाफी है कहाँ आप मुझे सायकल के लिये इतना नचा रहे हो वहाँ प्रतीक को लैम्बॉर्घिनी दिला दी।” इस पर मुलायम ने कहा “ऐओ थोई ओता ऐ तुअने सायकअ माई ओ ओई दिआई हअने।”(ऐसो थोड़ी होता है तुमने सायकल माँगी तो वही दिलाई हमने)।

इतने में शिवपाल भी आकर बोले “अगर अखिलेश को लैम्बॉर्घिनी मिले तो हमें भी कम से कम ऑडी चाहिए।” शिवपाल और अखिलेश में झगड़ा होने लगा| मुलायम गुस्से में बोले “सिवपाअ अखिएस चुप ओ जाओ, दोओ में कोई को गाई नई मिएगी, चआनी तो साइकअ पएगी|” (शिवपाल अखिलेश चुप हो जाओ दोनों में से किसी के गाडी नहीं मिलेगी चलानी तो सायकल ही पड़ेगी।) खबरों की माने तो नाराज़ अखिलेश लैम्बॉर्घिनी से महँगी गाड़ी खरीदने पर अड़े हैं और मुलायम सिंघ ने नोटबंदी का बहाना कर पैसे देने से मना कर दिया। सायकल से लैम्बॉर्घिनी तक जा पहुँची इस लडाई का अंत लगता है चुनाव के बाद भी नहीं होगा।



ऐसी अन्य ख़बरें