Thursday, 18th January, 2018

चलते चलते

नए साल में मोदी सरकार से नाराज़ होने का प्लान बना रहे हैं आडवाणी जी

27, Dec 2017 By Ritesh Sinha

नयी दिल्ली. भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी जी मार्गदर्शक मंडल से बाहर निकलने के लिए तड़प रहे हैं, फिर भी बीजेपी वाले उन्हें कोई काम सौंपते ही नहीं हैं। फिलहाल, वे दूसरों को मुख्यमंत्री बनते हुए देखने का महत्वपूर्ण काम कर रहे हैं, लेकिन वे इस काम से भी बोर हो चुके हैं और कुछ नया करना चाहते हैं- एडवेंचर गेम्स टाइप! इसीलिए उन्होंने मोदी सरकार से रूठकर नया साल मनाने का प्लान बना लिया है, और वे इस प्लान को लेकर काफी एक्साइटेड भी हैं।

Advani3
‘बस, बहुत हो गया!”

खुद आडवाणी जी ने हमें इस प्लान के बारे में बताया- “देखिए! छुट्टियों में अक्सर लोग घूमने जाते हैं, मौज-मस्ती करते हैं! सबका अपना-अपना स्टाइल होता है! ये मेरा स्टाइल है! ऐसा है कि 29 तारीख को मैं सिग्नल दे दूंगा कि मैं मोदी से नाराज हूँ, उसके बाद तो मौज ही मौज है!” -उन्होंने अपने चिर-परिचित अंदाज़ में बताया।

“सिग्नल मिलते ही सारे मीडिया वाले मेरे घर पहुँच जाएँगे! मुझसे सवाल करेंगे! फिर मैं भाव खाते हुए उन सबको एक भी बाइट नहीं दूंगा! कई पत्रकार अफवाह फैलाकर इसमें मेरी मदद करेंगे! तीन-चार दिन तक ऐसा ही चलता रहेगा! पूरा मज़ा लेने के बाद तीन-चार जनवरी को मैं सामने आऊँगा और एक बयान जारी करके कह दूंगा कि मेरे कहने का मतलब वो नहीं था! बस, यही प्लान है मेरा! एक्शन पैक्ड!” -आडवाणी जी ने आगे कहा।

“लेकिन आप किस बात पर रूठने वाले हैं?” -ऐसा पूछे जाने पर आडवाणी जी सोच में पड़ गए और इधर-उधर झाँकने लगे। “अच्छा याद दिलाया तुमने! इस बारे में तो मैंने सोचा ही नहीं!” -कहते हुए उन्होंने हमारे रिपोर्टर को भगा दिया और ठुड्डी पर हाथ रखकर गहराई से सोचने लगे। एक्सपर्ट्स का मानना है कि आडवाणी जी को रूठने का इतना अनुभव हो चुका है कि वो बिना कारण के भी रूठकर दिखा सकते हैं।

उधर, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह अंदर-अंदर उन्हें मनाने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन आडवाणी जी मानने वालों में से नहीं हैं। ऐसा पहली बार हो रहा है कि शाह जी ‘अंदर’ वाले किसी काम में फेल हो गए हैं।



ऐसी अन्य ख़बरें