Wednesday, 22nd November, 2017

चलते चलते

"बीच की उंगली पर लगे स्याही का निशान"- 'आप' ने की चुनाव आयोग से अपील

05, Apr 2017 By Dharmendra Kumar

नयी दिल्ली. आम आदमी पार्टी (आप) ने हमेशा कुछ नया करने का प्रयास किया है। चाहे वो लोगों के घरों में घुसकर बिजली जोड़ने की वारदात हो या एलजी से सीधे दो-दो हाथ करने का मामला, पार्टी ने अपनी अलग छवि बनाने में कोई कसर नहीं उठा रखी। हाल में गोवा और पंजाब की चुनावी हार को भी उन्होंने बिल्कुल अलग ढंग से परिभाषित किया- ईवीएम मशीन में ही गड़बड़ी थी।

Kohli1
आम आदमी पार्टी का समर्थन करते कोहली

अब ‘आप’ ने मांग की है कि दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) के चुनाव ईवीएम के बजाय बैलेट पेपर से कराये जाने चाहिये। इसके अलावा, उन्होंने और भी कई अनूठी मांगें रखी हैं। ‘आप’ के प्रवक्ता चाघव रड्ढा ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि “हमारी समझ में नहीं आता कि वोट डालते समय वो स्याही हमेशा पहली उंगली पर ही क्यों लगाते हैं? इसके पीछे चुनाव आयोग की क्या मंशा है, वो साफ़-साफ़ बताये। आप पार्टी अपील करती है कि बड़ी उंगली के होते हुए छोटी उंगली पर स्याही लगाना, उसका अपमान है। मिडिल फिंगर को उसका अधिकार मिलना ही चाहिए।”

मिडिल फिंगर पर स्याही लगाने के और फायदे गिनाते हुए रड्ढा जी ने कहा कि “इससे ना सिर्फ वोटिंग अच्छी होगी बल्कि हमें भी साफ़-साफ़ संकेत मिल जायेगा कि हमारे उम्मीदवारों को चुनाव में क्या मिलने वाला है। गोवा और पंजाब में हम आखिर तक कन्फ्यूज्ड रहे।” फिर वो आगे बोले कि “हमारे सर्वे करने वालों ने जब मतदान कर लौट रहे लोगों से पूछा कि उन्होंने किसको वोट दिया है तो लगभग सभी ने मुस्कुराते हुए रंगी हई अपनी पहली उंगली दिखाई थी। हमने सोचा कि सब अपना भला करके आये हैं। बाद में रिजल्ट आने पर पता चला कि हमारा तो कांड हो गया।”

“अगर शुरू में ही लोगों ने बीच की उंगली दिखा दी होती तो मामला तभी साफ़ हो जाता और हमारा लड्डुओं और ढोल-नगाड़े का खर्च बच जाता।” -कहकर रड्ढा जी चुनाव आयोग को एक और मांग पत्र देने रवाना हो गये।



ऐसी अन्य ख़बरें