Wednesday, 24th May, 2017
चलते चलते

अगली बार न्यूज़ चैनलों के पत्रकारों के साथ हमला बोलेगी सेना, एक-एक टेरर कैंप की लोकेशन बतायेंगे जवानों को

30, Sep 2016 By बगुला भगत

नयी दिल्ली/श्रीनगर. पाकिस्तान की सीमा में घुसकर 30 से ज़्यादा आतंकियों को ढेर करने वाले जवानों को आर्मी चीफ़ से शाबासी के बजाय फ़टकार सुनने को मिल रही है। सेना प्रमुख दलबीर सिंह सुहाग ने कल उन सारे जवानों को टीवी रूम में इकट्ठा किया और न्यूज़ चैनल दिखाते हुए कहा- “इनसे सीखो कुछ! तुमसे अच्छा हमला तो ये कर रहे हैं। देखो, कैसे एक-एक कैंप को उड़ा रहे हैं!”

News Chanel3
सरकार को वॉर रूम का आइडिया यहीं से मिला था

यह कहते हुए वो आगे बढ़े और टीवी स्क्रीन पर उंगली लगाते हुए बोले- “और ये दो कैंप क्यूं छोड़ दिये तुम लोगों ने? देखो, इस एंकर को! कैसे उंगली लगा-लगाकर एक-एक ठिकाने को बता रहा है। आतंकियों के अड्डों के बारे में तुम लोगों से ज़्यादा तो ये जानते हैं।” फिर एक दूसरे चैनल की ओर इशारा करते हुए बोले- “वो देखो! बिना जैकेट पहने वो आतंकवादियों के बंकर में कूद गया।”

रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर भी कार्रवाई के रिजल्ट से पूरी तरह संतुष्ट नहीं हैं। उन्होंने निर्देश दिया है कि अगली बार हमला करते समय कुछ पत्रकारों को भी साथ रखा जाये ताकि जवानों को आतंकी ठिकानों की ठीक-ठीक लोकेशन पता चल सके। सुहाग ने उन्हें भरोसा दिलाते हुए कहा कि “सर, हमारे जवान आगे से न्यूज़ चैनलों के ‘Representative Video’ और ‘नाट्य रूपांतरण’ देखकर ही अपने हमले की तैयारी करेंगे और हमले के समय इन्हें साथ भी रखेंगे।”

इसके बाद उन्होंने बताया कि “हमने 25 एंकरों और पत्रकारों के नाम शॉर्टलिस्ट कर लिये हैं, जिन्हें जवानों के साथ भेजा जायेगा और उन्हें चिट्ठी भी भेज दी है।”

उधर, यह चिट्ठी मिलते ही कुछ एंकर्स को दस्त लग गये हैं, जबकि कुछ ख़राब तबियत का बहाना बनाकर लंबी छुट्टी पर चले गये हैं। एक एंकर ने ऑफ़िस से निकलते हुए कहा कि “ये सारे बंकर और कैंप तो ग्राफ़िक्स वालों ने बनाये हैं। मैं इस बारे में कुछ नहीं जानता!”, तो वहीं एक जाने-माने एंकर ने नाम ना छापने की शर्त पर कहा कि “हमें वहां भेजने की क्या ज़रूरत है! हम जवानों को अपने स्टूडियो से ही गाइड कर देंगे। जैसे ऑनलाइन कोचिंग प्रोग्राम वाले करते हैं।” -कहते हुए वो टांगों के बीच में हाथ लगाकर पंजों पर उचकते हुए वॉशरूम की ओर दौड़ पड़े।



ऐसी अन्य ख़बरें