Friday, 24th March, 2017
चलते चलते

NDTV ब्लैकआउट में स्क्रीन नहीं रहेगी काली, दर्शक रिमोट द्वारा खेल पाएंगे लूडो और सांप सीढ़ी

06, Nov 2016 By banneditqueen

नई दिल्ली. NDTV के ब्लैकआउट दंड समय के दौरान जो स्क्रीन काली रहने वाली थी अब उस पर सरकार कुछ नए प्रावधान लाने की सोच रही है। आम आदमी पार्टी द्वारा किये गए एक इंटरनल सर्वे में लोगो ने पेशकश की थी के वो NDTV पर कहानियां (माने के न्यूज़ स्टोरीज़) देखने के इतने आदि हैं के उसके इलावा कोई चैनल देख ही नहीं पाते, इसी कारण उस ब्लैकआउट के दिन उस स्क्रीन पर पूरी कालिख न पोती जाए, अपितु लिबरल दर्शकों की उम्मीदों का ख्याल रखते हुए उसपर कुछ गेम्स इत्यादि का प्रावधान लाया जाए। केंद्र सरकार नें इतिहास में पहली बार दिल्ली सरकार के किसी सर्वे के नतीजे को तुरंत मान लिया है और अब उस दिन लोग NDTV की न्यूज़ स्क्रीन पर रिमोट द्वारा लूडो और सांप सीढ़ी खेल पाएंगे।

लूडो खेलने की प्रैक्टिस करते लोग
लूडो खेलने की प्रैक्टिस करते लोग

देश की जानी मानी लिबरल सोशल वर्कर लोवलीन जांगीड़ नें इस मामले पर भी सरकार को आड़े हाथों लिया है, टूटी फूटी हिंदी में उन्होंने कहा, “अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को दबाया जा रहा है। What’s that word, for ambiance? वातावरण .. हाँ सरकार का वातावरण कुछ ठीक नहीं चल रहा है। लूडो एंड सांप सीढ़ी? What are we? toddlers? ये गलत स्टेप लिया है गवर्नमेंट नें। सांप सीढ़ी इस सो मिडिल क्लास। कैंडी क्रश साग या फिर कुछ एनीमेशन गेम्स रखते, पर ये सरकार तो माइनॉरिटीज विरोधी सरकार है। रखा तो लूडो, जिसमे के एक कलर ऑरेंज होता है, यानी के भगवा, … शेमफुल।”

जाने माने मनोवैज्ञानिक, डॉक्टर शोचिक दस्तानेवाला की माने तो सरकार का ये कदम कई घरों में लड़ाई भी पड़वा सकता है। डॉक्टर दस्तानेवाला ने कहा, “देखिये टीवी के रिमोट को लेके घरों में काफी झगड़ा रहता है। रिमोट के झगडे को लेके बापों नें बेटों को जायदाद से बेदखल तक कर दिया हैं। आपस में प्रेम करने वाले मियां बीवी के तलाक तक हो चुके हैं। अब सरकार चाहती है के लोग टीवी के रिमोट से गेम्स खेलें? ये कोई एक्स-बॉक्स नहीं है साहब, टीवी है, गेम में जीतने के लिए रिमोट की छीना झपटी होगी, दंगे हो जायेंगे घर में। देश में पारिवारिक अपराध में काफी वृद्धि हो सकती है। सावधान इंडिया के कई नए एपिसोड्स जल्द ही सामने आएंगे।”

ठीक ब्लैकआउट वाले दिन क्या होगा ये तो समय ही बताएगा परंतु इसी बीच आम आदमी पार्टी ने मांग की है के उस दिन पूरी कालिख पुती स्क्रीन के बजाये पूरा दिन उनके मोमबत्ती वाले विज्ञापन स्क्रीन पर दिखाए जाएँ। उन विज्ञापनों की कीमत पांच करोड़ प्रति मिनट तक होगी और नीचे लिखा होगा, “मोदी जी हमारे पास इलेक्शन लड़ने के पैसे नहीं हैं। हमें इलेक्शन लड़ने दीजिये।



ऐसी अन्य ख़बरें