Sunday, 19th November, 2017

चलते चलते

बाबा को सज़ा की ख़बर सबसे पहले किस न्यूज़ चैनल ने दिखाई, सुप्रीम कोर्ट करेगा तय

29, Aug 2017 By बगुला भगत

नयी दिल्ली. बाबा गुरमीत राम रहीम के मामले का फै़सला तो हो गया लेकिन न्यूज़ चैनलों का झगड़ा चालू हो गया है। देश के सारे न्यूज़ चैनल कल से ही इस बात पे झगड़ रहे हैं कि बाबा को सज़ा मिलने की ख़बर सबसे पहले किसने दिखाई। आजतक और एबीपी न्यूज़ के रिपोर्टर तो रोहतक जेल के बाहर ही आपस में भिड़ गये। एक कैमरामैन का सर भी फूट गया। मामला बढ़ता देख अब सुप्रीम कोर्ट को इसमें दखल देना पड़ा है।

News Chanel11
सबने ही दिखाई सबसे पहले न्यूज़

देश की सर्वोच्च अदालत ने सभी न्यूज़ चैनलों से कल की रिकॉर्डिंग के टेप मंगाये हैं। उन्हें देखकर ही वो तय करेगी कि बाबा को सज़ा मिलने की ख़बर सबसे पहले कौन से चैनल ने दिखाई थी। सारे चैनलों ने टेप के साथ अपने चार-चार वकील भी सुप्रीम कोर्ट रवाना कर दिये हैं। रिपब्लिक टीवी के वकील का दावा है कि बाबा के रोने की न्यूज़ सबसे पहले हमने बताई थी, तो वहीं टाइम्स नाऊ कह रहा है कि बाबा के माफ़ी मांगने की न्यूज़ हमने ब्रेक की थी।

क़ानून के जानकारों का मानना है कि सुप्रीम कोर्ट के लिये इस मामले में फ़ैसला करना आसान नहीं होगा। ‘बाबरी मस्जिद-राम मंदिर’ मामले के बाद यह केस देश के इतिहास का सबसे मुश्किल केस साबित होने वाला है।

अभी-अभी ख़बर मिली है कि ‘नंबर वन न्यूज़ चैनल’ के झगड़े का फ़ैसला भी सुप्रीम कोर्ट ही तय करेगा। कई सालों से सारे चैनल ‘नंबर वन’ होने का दावा कर रहे हैं। कोई कह रहा है कि ‘चुनाव की काउंटिंग वाले दिन’ नंबर वन थे तो कोई दावा कर रहा है कि हम ‘सुबह 6 बजे से 7 बजे तक’ नंबर वन थे। इसको देखते हुए हो सकता है कि कोर्ट सारे चैनलों को एक-एक हफ़्ते नंबर वन होने का फ़ैसला सुना दे या इस नंबरिंग के सिस्टम को ही हमेशा के लिये ख़त्म कर दे।



ऐसी अन्य ख़बरें