Tuesday, 24th October, 2017

चलते चलते

हनीप्रीत को 'बिग बॉस' के घर में एंट्री कराने का लालच दिया था 'आजतक' ने, रिपोर्टर ने क़बूली सच्चाई

04, Oct 2017 By बगुला भगत

पंचकुला. पिछले डेढ़ महीने से जिस हनीप्रीत को पाँच-पाँच राज्यों की पुलिस नहीं ढूँढ पाई, उस हनीप्रीत को ‘आजतक’ के रिपोर्टर ने कैसे ढूँढ लिया? पूरे देश की जनता यही सोच-सोचकर परेशान हो रही थी और सबसे ज़्यादा परेशान थे वे न्यूज़ चैनल, जिनके रिपोर्टर जान तक के घोड़े दौड़ाने के बावजूद भी हनीप्रीत का सुराग़ नहीं लगा पाये। कुछ चैनल तो यहाँ तक कहने लगे थे कि ‘आजतक’ ने हनीप्रीत को इंटरव्यू के बदले में 5 करोड़ रुपये दिये हैं तो कुछ कह रहे थे कि उसे ज़मानत दिलाने की गारंटी दी है।

honey-preet10
बिग बॉस के घर जाने के चक्कर में फँस गयी बेचारी

लेकिन ये सब हवाई बातें हैं, इस इंटरव्यू के पीछे की असली सच्चाई फ़ेकिंग न्यूज़ के रिपोर्टर ने ढूँढ ली है क्योंकि ढूँढने में हम भी ‘आजतक’ से कम नहीं हैं। सच्चाई ये है कि आजतक के रिपोर्टर ने हनीप्रीत को बिग बॉस के घर में एंट्री कराने का लालच दिया था। चैनल के रिपोर्टर सुरेंदर चौहान ने हनी से प्रॉमिस किया कि उसके मालिक उसे बिग बॉस के घर में एंट्री दिला देंगे और विनर भी बनवा देंगे।

बेचारी भोली-भाली पापाजी की बेटी हनी इसके झाँसे में आ गयी क्योंकि वो और पापाजी तो पहले से ही बिग बॉस के घर में जाना चाहते थे। दोनों की सलमान ख़ान के साथ बात लगभग पक्की भी हो गयी थी लेकिन बीच में ये कोर्ट-कचहरी का चक्कर हो गया और बेचारे पापाजी बिग बॉस के घर की जगह ‘सरकारी घर’ में पहुँच गये।

ऐसे में जब इस रिपोर्टर ने अंडरग्राउंड हनी को ये बिग बॉस वाला लालच दिया तो हनी ने सोचा कि “पापाजी नहीं हैं तो चलो मैं अकेले ही चली जाती हूँ और पापाजी के अधूरे सपने को पूरा करती हूँ!” ये सोचकर वो इंटरव्यू के लिये राज़ी हो गयी। लेकिन अब उसे भी पता चल चुका है कि इस रिपोर्टर ने झूठा प्रॉमिस किया था और अब उसे भी ‘सरकारी घर’ में एंट्री मिलने वाली है।

इस बीच, पता चला है कि हनीप्रीत को खोज निकालने वाले रिपोर्टर सुरेंदर चौहान को आजतक के मालिकों ने चैनल में 15% हिस्सेदारी देने का एलान कर दिया है, जबकि दूसरे न्यूज़ चैनलों ने अपने सैंकड़ों पत्रकारों को लात मारकर बाहर निकाल दिया है।

अभी-अभी ख़बर मिली है कि हनीप्रीत को जेल से छुड़ाने की साज़िश में हरियाणा पुलिस ने एबीपी के दो पत्रकारों को गिरफ़्तार किया है। ये दोनों हनीप्रीत को जेल से भगाकर फिर से कहीं ग़ायब करने वाले थे ताकि इस न्यूज़ को दो-तीन महीने और खींचा जा सके।



ऐसी अन्य ख़बरें