Thursday, 19th January, 2017
चलते चलते

दिल्ली में संदिग्ध युवक गिरफ़्तार, 15 अगस्त के बाद देशभक्ति वाला गाना सुनने का आरोप

16, Aug 2014 By बगुला भगत

नयी दिल्ली. देश की राजधानी में सुरक्षा बलों की मुस्तैदी से आज एक बड़ा हादसा होने से टल गया। ख़ुफ़िया एजेंसियों से मिली जानकारी के आधार पर कनॉट प्लेस के पालिका बाज़ार से आज दोपहर एक संदिग्ध युवक को गिरफ़्तार कर लिया गया। पकड़े गये युवक पर 15 अगस्त के बाद भी देशभक्ति का गाना सुनने का गंभीर आरोप है। फिलहाल युवक से संसद मार्ग थाने में पूछताछ की जा रही है।

Music
16 अगस्त को देशभक्ति गीत सुनता संदिग्ध युवक

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, आरोपी युवक कनॉट प्लेस जैसी जगह पर भी अकेला आया था और देश के सबसे ऊंचे झंडे के नीचे बहुत देर से चुपचाप अकेला बैठा था।

“ना वो सेल्फ़ी ले रहा था, ना चने खा रहा था। बस मुंह उठाए झंडे को देखे जा रहा था! मुझे तभी शक हो गया कि बेटा ये तो झंडे की रेकी कर रहा है!” अपनी गर्लफ्रेंड के साथ वहां रोज़ आने वाले सार्थक सिंह ने फ़ेकिंग न्यूज़ को बताया।

“लेकिन वो झंडे के सम्मान में भी तो आया हो सकता है”, इस पर सार्थक ने नाराज़ होते हुए कहा, “अजी छोड़ो भाईसाब! झंडा तो नवीन जिंदल भी लगाता है! ये सब बगुला भगत हैं। करते कुछ हैं और दिखाते कुछ हैं!”

इतने में भीड़ में से एक अधेड़ उम्र के व्यक्ति ने सवालिया लहज़े में पूछा कि “ये कल क्या कर रहा था? हर चीज़ का अपना एक टाइम होता है। क्या कभी किसी को मंडे के दिन हनुमान जी का व्रत करते देखा है, मंडे तो शिव जी का ही दिन है ना!” उसने अगला सवाल दागते हुए कहा, “और फिर हमने ये 15 अगस्त और 26 जनवरी बनाए किसलिए हैं?”

बाद में पुलिस के सूत्रों ने बताया कि आरोपी युवक के कमरे से कैटरीना या स्टीव जॉब्स की जगह गांधी वगैरह के कई आपत्तिजनक फ़ोटो बरामद हुए हैं। अब पुलिस उसके दोस्तों और परिवार वालों से भी पूछताछ कर रही है कि ये अब से पहले देशभक्ति की ऐसी कितनी आपराधिक गतिविधियों में संलिप्त रहा है।

उधर, थाने में बंद युवक से मिलने पहुंचे फ़ेकिंग न्यूज़ के संवाददाता ने जब पूछा कि “16 अगस्त को ऐसा गाना ना सुनने का कोई क़ानून है क्या”, इस पर एसएचओ राजबीर कटारिया ने कहा कि “नहीं, कानून तो नहीं है, लेकिन इस देश में सब कुछ कानून के हिसाब से ही होता है क्या! हमें पुलिस में इतना टैम हो गया, पर हमने आज तक 16 अगस्त को किसी को ऐसा गाना सुनते नहीं देखा।”

एक दूसरे पुलिस वाले ने नसीहत देते हुए कहा, “सर जी, कोई भी चीज़ उतनी ही करनी चाहिए, जितनी हम अफ़ोर्ड कर सकें। हम एक दिन से ज़्यादा की देशभक्ति नहीं झेल सकते।”



ऐसी अन्य ख़बरें