Saturday, 23rd September, 2017

चलते चलते

"मेरे भरोसे लोग अपने बछड़े छोड़ सकते हैं, बच्चे नही" -योगी आदित्यनाथ

30, Aug 2017 By बगुला भगत

लखनऊ. जगत-विख्यात गौ-सेवक और यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि “मेरे भरोसे पे पब्लिक सिर्फ़ अपने बछड़े छोड़ सकती है। बछड़े पालने का मुझे बहुत लंबा एक्सपीरिएंस है। मैं अपने हाथों से उन्हें गुड़ और चने खिलाऊँगा। लेकिन कोई मेरे भरोसे पे अपने बच्चे ना छोड़े क्योंकि बच्चे पालने का मुझे कोई अनुभव नहीं है।”

yogi adityanath- cow
अपनी सबसे बड़ी ज़िम्मेदारी निभाते योगी जी

योगी जी आज यहाँ ‘धक्का स्टार्ट-अप यात्रा’ कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। इस मौक़े पर एक रिपोर्टर ने उनसे सवाल कर दिया कि “सर, आपकी गोरखपुर की गौशाला…” इतना सुनते ही योगी जी घबराकर पूछने लगे “क्या हुआ मेरी गौशाला को…बताओ क्या हुआ?” इस पर रिपोर्टर बोला कि “सीएम साब, आपकी गौशाला को कुछ नहीं हुआ। मैं तो कह रहा था कि आपकी गोरखपुर की गौशाला के पीछे जो हॉस्पिटल है, उसमें पिछले तीन दिनों में फिर से 61 बच्चों की मौत हो चुकी है…”

उसकी पूरी बात सुने बगैर योगी जी अपनी छाती पर हाथ रखते हुए बोले- “हे भगवान! गौशाला का नाम लेकर तुमने तो मुझे डरा ही दिया था! शुक्र है वहाँ सब ठीक-ठाक है।” यह कहकर वो जाने लगे। रिपोर्टर ने पीछे-पीछे माइक लेकर दौड़ते हुए पूछा- “लेकिन मुख्यमंत्री जी, इन बच्चों की मौत की ज़िम्मेदार कौन है? क्या ये बच्चे सरकार की ज़िम्मेदारी नहीं हैं?”

“देखो भाई, मैंने इसीलिये शादी नहीं की थी, क्योंकि मैं बच्चों को नहीं पाल सकता। और फिर जिन्होंने बच्चे पैदा किये हैं, वे हैं ना उनकी ज़िम्मेदारी उठाने के लिये! सरकार को और काम नहीं हैं क्या!”, यह कहकर योगी जी गौशाला के लिये 50 करोड़ के गुड़ का टेंडर निकालने रवाना हो गये।



ऐसी अन्य ख़बरें