Saturday, 18th November, 2017

चलते चलते

सोते समय दूसरों का कम्बल खींचने वालों को होगी सज़ा

01, Dec 2016 By banneditqueen

अजमेर. वैशाली नगर में रहने वाले दो भाई परम और बादल में आए दिन झगड़ा होता था। दोनों में केवल दो साल का अंतर था। कभी पेंसिल, कभी रबर, कभी खाना शायद ही कोई ऐसी चीज़ हो जिसे लेकर वह दोनों लड़ाई ना करते हों। माँ बड़े भाई का साइड लेती तो पापा छोटे भाई का। ठंड के मौसम में सबसे ज्यादा हंगामा होता। ठंड का मौसम आते ही दोनों भाइयों में गर्म पानी को लेकर झगड़ा होता।

रात को सोते समय दूसरे का कम्बल खींचना तो जैसे आदत है
रात को सोते समय दूसरे का कम्बल खींचना तो जैसे आदत है

रात को सोते समय अक्सर नींद में एक दूसरे का कम्बल खीचने की आदत थी। जो भी रात में कम्बल खींचता अगले दिन उसकी शिकायत होती। कमरे में जगह ना होने के कारण बेड अलग करना सम्भव नहीं था। दो दिन पहले सोते समय बादल ने पूरा कम्बल अपनी तरफ खींच लिया। परम रात भर ठंड में काँपता रहा। अगले दिन सवेरे बदला लेने के लिये परम ने बादल के नहाने वाले पानी में ठंडा पानी मिला दिया। जैसे ही बादल ने नहाना शुरू किया वह चिल्लाते हुए बाहर निकला। दोनों भाइयों में झगड़ा होने लगा, परम ने माँ को बुलाकर बताया “इस बादल ने रात को मेरा पूरा कम्बल खींच लिया।” तभी परम ने कहा “मैंने कोई जानबूझ कर कम्बल नही लिया पर इसने जानबूझ कर मेरे गरम पानी में ज्यादा ठंडा पानी मिला दिया।”

इस झगड़े को सुनकर पड़ोस में रहने वाली नागपाल आंटी भी आ गईं। अांटी ने सारा किस्सा सुुनने के बाद कहा यह किस्सा तो रोज़ का है मेरे घर में भी बच्चों का इसी बात पर झगड़ा होता है। परम और बादल की माँ को जब यह पता लगा कि यह परेशानी सभी घरों में है तो उनहोनें स्कूल प्रशासन से गुहार लगाई कि इस झगड़े को खत्म करने में मदद करें। इस के बाद सभी स्कूलों ने यह निर्देश जारी किया कि जो भी बच्चा रात में दूसरे का कम्बल खींचेगा उसे अगले दिन स्कूल बिना स्वेटर के आने होगा।



ऐसी अन्य ख़बरें