Wednesday, 22nd November, 2017

चलते चलते

राहुल गाँधी से चीनी राजदूत की मुलाक़ात के बाद दूतावास के कर्मचारियों की साढ़े साती शुरु

10, Jul 2017 By बगुला भगत

नयी दिल्ली. एक सनसनीख़ेज़ ख़ुलासे में आज पता चला कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने दो दिन पहले चीनी राजदूत से मुलाक़ात की थी। लोग हैरान रह गये कि जिन राहुल जी के क़रीब आने से हमारे अपने देश के लोग भी डरते हैं, चीन के राजदूत लू झाओहुई को आख़िर उनसे मिलने की ऐसी क्या ज़रूरत आन पड़ी? क्या उन्हें बिल्कुल भी डर नहीं लगा?

Rahul-Gandhi
चीन के राजदूत को आशीर्वाद देते राहुल गाँधी

ख़ैर, वजह चाहे जो भी हो! लेकिन इस मुलाक़ात के बाद चीनियों पर भी ‘राहुल इफ़ेक्ट’ दिखाई देना शुरु हो गया है। चीनी दूतावास के सूत्रों अनुसार, 8 जून यानि राहुल-लू की मुलाक़ात वाले दिन के बाद से ही दूतावास के कर्मचारियों की साढ़े साती शुरु हो गयी है। उनके साथ कुछ भी अच्छा नहीं हो रहा है। राजदूत लू को जुआ खेलने की पुरानी आदत है और वो तब से जुए में लाखों रुपये हार चुके हैं। लोऊ का बेटा स्कूल में उसी दिन से लगातार अपने बैडमिंटन के मैच हार रहा है।

इसके अलावा, किसी कर्मचारी को दस्त लगे हुए हैं तो किसी का पर्स खो गया है। यानि पूरे दूतावास पर आफ़त आयी हुई है। एक साथ सारे लोगों पर आफ़त आने से लू को दूतावास पर किसी ऊपरी हवा का शक़ हुआ। उन्होंने तुरंत जाने-माने तांत्रिक भूरेशाह बंगाली को बुलाया।

भूरेशाह ने दूतावास में झाड़-फूंक करने के बाद कहा कि इस बिल्डिंग से उस मुलाक़ात के सारे सबूत मिटा दो। अपनी वेबसाइट पे भी उसका कोई सबूत मत छोड़ो! इसके तुरंत बाद वेबसाइट से भी राहुल-लू मुलाक़ात की जानकारी उड़ा दी गयी। उसके बाद कहीं जाकर लोगों को कुछ राहत मिली। हालांकि, राहुल जी का असर अभी भी पूरी तरह ख़त्म नहीं हुआ है।

उधर, इस हादसे के उलट, कांग्रेस पार्टी का कहना है कि “सिक्किम में चीन की हरकतों से राहुल जी का ख़ून ख़ौल रहा था, जब उनसे सहन नहीं हुआ तो उन्होंने चीन के राजदूत को आमने-सामने जाकर चेतावनी दे दी कि हमारी ज़मीन से पीछे हट जाओ नहीं तो अच्छा नहीं होगा! अब देखना वे चीनी दो दिन में सीधे हो जायेंगे!”



ऐसी अन्य ख़बरें