Saturday, 23rd September, 2017

चलते चलते

ताहिर मर्चेंट को कोर्ट ने सुनाई मौत की सजा, प्रशांत भूषण दया याचना लेकर पहुंचे

08, Sep 2017 By banneditqueen

दिल्ली. आतंकवादी देश में हज़ारों लोगों को मौत के घात उतार दें पर अगर कोर्ट उन्हें मौत की सजा सुना दे तो भारत के एक वर्ग की भावनाए आहत हो जाती हैं। कुछ वर्ष पहले जब मुंबई में हुए बम धमाकों के आरोपी अब्दुल कसाब को कोर्ट ने फांसी की सजा सुनाई थी तब देश के कई इंटेलेचुअल्स ह्यूमन राइट्स की दुहाई देते हुए आधी रात को राष्ट्रपति के घर दया याचना लेकर पहुँच गए थे।

prashant-bhushan_759कल कोर्ट ने 1993 में हुए मुंबई ब्लास्ट्स के आरोपी ताहिर मर्चेंट को मौत की सजा सुनाई है। पर इस बार प्रशांत भूषण जी ने पहले ही दया याचना दाखिल कर दी है। प्रशांत जी से फेकिगं न्यूज़ ने बातचीत की, उन्होंने बताया कि ”माना कि आतंकवादियों के कारण कई लोगो की जान चली गयी, कई लोगों के परिवार बिखर गए पर इसका मतलब यह तो नहीं की उनसे बदला लिया जाए। आखिर क्या सन्देश देंगे हम आने वाली पीढ़ी को ? कि अगर कोई राह भटक कर कुछ लोगों की जान ले ले तो उसे भी वही सजा दी जाएगी?”

प्रशांत भूषण के बचाव में अरुंधति राय, शोभा डे, नंदिता दास और महेश भट्ट आगे आए हैं। इन सभी का कहना है कि इस बार हम उम्मीद करते हैं कि आधी रात को कॉकटेल पार्टी छोड़ कर हमें मर्सी पेटिशन लेकर नहीं जाना पड़ेगा। उम्मीद है राष्ट्रपति जी इस बार पहले ही दया याचना स्वीकार कर लें।



ऐसी अन्य ख़बरें