Monday, 18th December, 2017

चलते चलते

'पत्थरबाज़ों को मिलते हैं दिन के 700 रुपये'- सुनकर इंजीनियर ने छोड़ी नौकरी

30, Mar 2017 By banneditqueen

बैंगलोर/कश्मीर. कश्मीर में सैन्य बलों पर हो रही पत्थरबाज़ी कोई नई बात नहीं है। कल बड़गाम में भी पत्थरबाज़ों ने सैन्य बलों पर हमला किया गया। इसके बाद एक चैनल द्वारा स्टिंग ऑपरेशन में यह खुलासा हुआ कि पत्थरबाज़ महीने के दस हज़ार से ग्यारह हज़ार तक कमा लेते हैं। इस खबर के बाद पूरे देश में हड़कम्प मच गया है। कई बेरोज़गार और यहाँ तक की महीने का तीस से पचास हज़ार कमाने वाले लोग भी इस व्यवसाय का हिस्सा बनने का सोच रहे हैं।

पत्थर फेकने का ऑडिशन देते युवक
पत्थर फेकने का ऑडिशन देते युवक

स्टिंग ऑपरेशन के दौरान नाम ना बताने के शर्त पर एक पत्थरबाज़ ने खुलासा किया कि ”हमें पत्थर फेकने के लिए महीने का 10000 से 11000 रुपये मिलता है। जितने सैनिकों पर हमला हो उस हिसाब से रेट बढ़ता जाता है। और अगर कोई सैन्य बलों द्वारा मारा जाता है तो उसके परिवार को ज्यादा पैसे मिलते हैं। हर पत्थर का अलग रेट होता है। इन सब के बाद हंगामा करने का और घाटी में बंद का एलान करने का अलग चार्ज लगता है।” इस खुलासे के बाद आई.टी. सेक्टर में हंगामा मच गया है। एक अनपढ़ कश्मीरी को पत्थर फेकने के लिए दस हज़ार रुपये मिलते हैं यह जानने के बाद पिछले साल ही एक नामी गिरामी कम्पनी में रिक्रूट हुए विवेक ने नौकरी से इस्तीफा दे दिया।

विवेक ने फेकिंग न्यूज़ से बातचीत में बताया कि ”यहाँ सालों पढ़ाई करने के बाज भी फ्रेशर की सैलरी 3 लाख से ऊपर नहीं होती, दिन का 12 घंटे और संडे को ओवरटाइम करने के बाद भी दिन का 1500 रुपया भी ढंग से नहीं मिलता। धिक्कार है ऐसी नौकरी पर इससे अच्छा तो मैं घाटी में जाकर पत्थर ही फेंकूँ। यह सब जानने के बाद तो मैंने अब कश्मीर की टिकट करा ली है। मैं दो दिन से पड़ोसियों पर पत्थर फेंकने की प्रैक्टिस कर रहा हूँ।” इसके अलावा विवेक के कई और साथियों ने भी ऩौकरी छोडने का मन बना लिया है।



ऐसी अन्य ख़बरें