Wednesday, 20th September, 2017

चलते चलते

शिवराज के उपवास से पड़ोसी राज्यों में भी छाई शांति, पूरी दुनिया में बढ़ी डिमांड

11, Jun 2017 By बगुला भगत

भोपाल. राष्ट्रीय मामा और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के ‘शांति-उपवास’ का असर ना सिर्फ़ मध्य प्रदेश में दिखाई दिया बल्कि आस-पड़ोस के राज्यों में भी शांति छा गयी। एमपी के साथ-साथ यूपी, छत्तीसगढ़ और राजस्थान के अपराधियों को भी अचानक अपने किये पर पछतावा होने लगा और उनकी आँखों से आँसू बहने लगे।

shivraj fast
अपने चमत्कारिक उपवास पर बैठे शिवराज

कुछ अपराधी तो ऐसे भी हैं, जो वारदात करने निकले थे लेकिन बीच रास्ते से ही रोते हुए वापस लौट आये। ख़बर लिखे जाने के समय भी थानों में सरेंडर करने वाले अराजक तत्वों की लाइनें लगी हुई थीं।

नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) ने भी इस एक-दिवसीय उपवास के प्रभाव की पुष्टि की है। एनसीआरबी के अनुसार, “कल सुबह जब मामा जी उपवास पर बैठे थे, तभी से कई राज्यों में अपराध का ग्राफ़ आश्चर्यजनक रूप से नीचे चला गया है।” हालांकि बीजेपी के कुछ नेता इंग्लैंड और अमेरिका में कोई नई हिंसक वारदात ना होने का श्रेय भी इसी उपवास को दे रहे हैं।

बीजेपी के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय का कहना है कि “मामाजी ने नारियल पानी पीकर उपवास तोड़ा इसलिये उसकी रेंज कम रह गयी। अगर करेले का जूस पीकर तोड़ा होता तो उसका असर बंगाल और केरल तक भी पहुंच जाता।”

“ये तो उपवास की शक्ति थी जो लोगों को अपने कुकर्मों पर पछतावा होने लगा लेकिन इस उपवास के टूटने के बाद क्या होगा?” यह सुनकर कैलाश जी आसमान की ओर हाथ उठाते हुए बोले कि “इसका असर कब तक रहेगा, कुछ कह नहीं सकते। लेकिन शांति के चक्कर में हमारे मामाजी पूरी ज़िंदगी उपवास पे भी तो नहीं बैठ सकते ना!”

उधर, इस चमत्कार के बाद मामा जी के उपवास की डिमाँड पूरी दुनिया में बढ़ गयी है। दुनिया के कोने-कोने से मुख्यमंत्री आवास में फ़ोन आ रहे हैं। कुछ फ़ोन तो सीरिया और इराक़ के हिंसाग्रस्त क्षेत्रों से भी आ रहे हैं। सबकी यही मांग है कि एक बार मामाजी हमारे यहाँ भी एक छोटा सा उपवास कर जायें, बदले में जो चाहे वो ले लें!



ऐसी अन्य ख़बरें