Monday, 26th June, 2017
चलते चलते

अपनी फिल्म के कलेक्शन देखकर सचिन बोले- ये दिल मांगे मोर, देश के मोर-रक्षक भड़के

01, Jun 2017 By Ritesh Sinha

मुंबई. जब से राजस्थान उच्च न्यायलय के जज (अब रिटायर्ड) ने मोर की तारीफ़ की है, देश में रातों रात मोर रक्षक पैदा हो गए हैं। इन रक्षकों का दावा है, कि ये मोर से जुड़ी हर बात का गलत अर्थ निकालेंगे, और अपना हुनर दिखाने से पीछे नहीं हटेंगे। लेकिन अफ़सोस की बात ये है कि इन्हें अपना हुनर दिखाने का मौका ही नहीं मिल रहा था, क्योंकि सब गाय के पीछे पड़े हैं, कोई भी मोर को भला-बुरा कहने के मूड में नहीं है।

''प्रजनन कैसे करें '' इस बात पर चर्चा करते मोर और मोरनी
”प्रजनन कैसे करें ” इस बात पर चर्चा करते मोर और मोरनी

कई मोर रक्षक तो एक दिन में ही अपने जॉब से तंग आ चुके थे। “छोड़ो यार! इस मोर रक्षा में कुछ मज़ा नहीं आ रहा है, गौ-रक्षा वालों को देखो, दिन भर न्यूज़ में बने रहते हैं!” -एक मोर रक्षक ने माथा पीटते हुए बताया।

इस बीच टीवी पर सचिन का इंटरव्यू आने लगा। वो अपनी बायोपिक के बारे में रिपोर्टर से बात कर रहे थे। बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि “वैसे तो दर्शकों से अच्छा रिस्पांस मिल रहा है, पांच दिन में ही कलेक्शन 35 करोड़ को पार कर चुका है, लेकिन इतने से कुछ नहीं होगा। ये दिल मांगे मोर!”-कहते हुए सचिन, दर्शकों से सिनेमा जाकर फिल्म देखने की अपील करने लगे। बस, यहीं पर सचिन ने बहुत बड़ी गलती कर दी। जैसे ही उन्होंने टीवी पर “ये दिल मांगे मोर” कहा, मोर रक्षकों को अपना पहला शिकार मिल गया, और उन्होंने सचिन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया।

एक मोर रक्षक ने लाठी घुमाते हुए कहा- “चलो जवानों! आज ईंट से ईंट बजा देते हैं। अपनी बायोपिक को प्रमोट करने का सचिन का ये आईडिया हमें बिल्कुल पसंद नहीं आया। ‘ये दिल मांगे मोर’ से क्या मतलब है? मोर की तस्करी करते हो क्या? फिलीम का प्रचार ही करना है तो मॉल में जाओ, रेस्टारेंट में जाओ, टीवी पर जाओ, लेकिन कुछ रुपयों के लिए मोर को बीच में मत घसीटो!”

मोर रक्षकों ने सचिन को धमकी दी है कि वे आज शाम तक माफ़ी मांग लें, नहीं तो उनके खिलाफ आन्दोलन को तीव्र कर दिया जाएगा। उधर, सचिन को कुछ आईडिया नहीं है कि ये क्या हो रहा है। हालाँकि, बाद में कलेक्शन गिरने के डर से उन्होंने माफ़ी भी मांग ली और ट्वीट किया- “ये दिल मांगे, थोड़ा और ज्यादा!”



ऐसी अन्य ख़बरें