Monday, 23rd April, 2018

चलते चलते

ट्रेन तभी जल्दी आती है जब प्लेटफॉर्म पर खड़े लोग बार-बार झाँक कर देखें: शोध में हुआ खुलासा

08, Feb 2018 By banneditqueen
ट्रेन के इंतज़ार में झांकता यात्री
ट्रेन के इंतज़ार में झांकता यात्री

एजेंसी. भारत की जनसँख्या और भारत का रेल नेटवर्क का दुनिया में कोई मुकाबला नहीं कर सकता। देश की ज़्यादातर जनता एक जगह से दूसरी जगह जाने के लिए रेलवे पर ही निर्भर है। पर करोड़ों की जनसँख्या, जिसमें हज़ारों तरह के लोग होने के बाद भी कुछ आदतें सबकी एक सामान हैं। जैसे किसी को सोता हुआ देख हर कोई यही सवाल पूछता है ”सो रहे थे क्या?” या टीवी देखते समय पूछते हैं कि ”टीवी देख रहे हो क्या?”

ऐसी ही एक आदत है- प्लेटफॉर्म पर खड़े होकर गाड़ी का इंतज़ार करते समय खाली पटरी की तरफ झाँकने की! हाल ही में हुए शोध से पता चला है कि जब तक औसतन 20 यात्री प्लेटफॉर्म पर खड़े होकर खाली पटरियों की तरफ झाँक-झाँक कर न देख लें कि ट्रेन आ रही है या नहीं तब तक ट्रेन आती ही नहीं है! अगर भारत के लोग पटरी की तरफ झाँक कर ना देखें तो ट्रेन के आने की संभावना कम हो जाती है। और अगर कोई भी झाँक कर ना देखे तो शायद ट्रेन आए ही ना!

फ़ेकिंग न्यूज़ की टीम ने तकरीबन पचास शहरों से आंकड़े इकट्ठा किये। हमने पाया कि ट्रेन अगर कुछ सेकेण्ड भी लेट हो जाए तो लोग पटरी की तरफ झाँक-झाँक कर जब तक ट्रेन की शकल नहीं देख लेते तब तक उनको संतुष्टि नहीं मिलती। एक यात्री ने हमें बताया कि ”देखिये ट्रेन आती हुई दिख जाए तो तसल्ली हो जाती है कि चलो ट्रेन आ रही है। हर पांच सेकेंड में ट्रेन की तरफ झाँकने से हमारे मन को तसल्ली मिल जाती है।”



ऐसी अन्य ख़बरें