Saturday, 18th November, 2017

चलते चलते

अमित शाह को अपने घर आने से मना कर दिया रिश्तेदार ने, घर में फूट पड़ने से डर गये भाईसाब

31, Jul 2017 By बगुला भगत

सूरत. बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के चरण जिस राज्य में पड़ जाते हैं, वहीं अपोजिशन पार्टी में फूट पड़ जाती है और उसके दो-चार विधायक शाह जी के साथ भाग जाते हैं। हालत ये हो गयी है कि जिन राज्यों में ऑलरेडी बीजेपी की सरकार है, वहाँ के विधायक भी शाह जी को देखते ही बीजेपी से इस्तीफ़ा देकर फिर से बीजेपी ज्वॉइन करने लगते हैं।

Shah ji5
बीच रास्ते से वापस लौटते शाह जी

लेकिन दूसरे दलों में फूट डालने का ये हुनर अब शाह जी को भारी पड़ने लगा है। उनके जान-पहचान वाले लोग अब उन्हें अपने घर बुलाने से भी डरने लगे हैं कि कहीं उनके आने से उनके घर में भी फूट ना पड़ जाये। कुछ रिश्तेदारों को तो डर सताने लगा है कि कहीं उनकी बीवी उन्हें छोड़कर शाह जी के साथ ना चली जाये। इसी डर की वजह से कल उनके एक नजदीकी रिश्तेदार ने उन्हें अपने घर आने से मना कर दिया।

सूरत में शाह जी के दूर के एक रिश्तेदार हैं चंपकभाई। उनकी पत्नी चंपाबेन ने पिछले हफ़्ते शाह जी को डिनर पे इन्वाइट कर दिया था, जिसका चंपकभाई को पता नहीं था। जैसे ही कल शाम उन्हें पता चला कि अमित भाई डिनर पे उनके घर आने वाले हैं, तो उनके तो होश ही उड़ गये। पहले तो वो चंपाबेन से लड़े फिर शाह जी को फ़ोन लगाकर उनसे ना आने की रिक्वेस्ट करने लगे।

शाह जी बोले, “लेकिन चंपकभाई मैं तो 15 मिनट में आपके घर पहुँचने वाला हूँ, बीच रास्ते में हूँ।” चंपकभाई ने कहा, “अमित भाई! प्लीज हमारे घर मत आईये!” “क्यों, क्या हो गया?” -शाह जी ने ड्राइवर को रुकने का इशारा करते हुए पूछा। “वो क्या है अमित भाई, अचानक हमें किसी ज़रूरी काम से बाहर निकलना पड़ गया। आप किसी और दिन आ जाना। आप ही का तो घर है।”

“ओके चंपकभाई!” -शाह जी ने मरे मन से कहा और वापस लौट गये। लेकिन अब वो अपने स्तर पर पता लगवा रहे हैं कि सच में चंपकभाई अपने घर पे नहीं थे या उनसे झूठ बोला था। अगर उन्हें सच्चाई पता चल गयी तो चंपकभाई का तो फिर भगवान ही मालिक है।



ऐसी अन्य ख़बरें