Saturday, 18th November, 2017

चलते चलते

भारतीय चिल्ड्रन बैंक को मिली मान्यता, छाप सकेंगे 2000 के नोट

05, Mar 2017 By कपट मुनि

नयी दिल्ली. भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा पर्याप्त संख्या में 2000 के नए नोट ना छाप सकने से नाराज वित्त मंत्रालय ने भारतीय चिल्ड्रन बैंक को 2000 के नए नोट छापने की इजाजत दे दी है। वित्त मंत्रालय द्वारा जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि रिजर्व बैंक द्वारा छापे गए सभी 2000 के गुलाबी रंग के नोट 31 मार्च की आधी रात से रद्द कर दिए जाएंगे और फ़र्स्ट अप्रैल से भारतीय चिल्ड्रन बैंक के चूरन पर्ची वाले नोट ही मान्य होंगे।‌

children-bank-1
चिल्ड्रेन बैंक ऑफ़ इंडिया का नोट- अब यही चलेगा

“फिर 2000 रूपये के रिजर्व बैंक वाले नोटों का जनता क्या करेगी?” इस सवाल के जवाब में वित्त मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि “ये नोट वापिस नहीं लिए जायेंगे। आप चाहें तो इन्हें फ्रेम करा के बेच सकते है और महिलायें चाहें तो इन्हें रोल बनाकर लिपस्टिक की तरह यूज कर सकती हैं। और अगर आपके पास ये बहुत ज्यादा संख्या में हैं तो आप इनसे होली खेलने के लिए गुलाबी रंग भी बना सकते हैं।”

‌वहीं, चिल्ड्रन बैंक सरकार की इस घोषणा से बहुत उत्साह में है। बैंक के गवर्नर ने हमारे संवाददाता को दिए एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में कहा कि “हम सरकार के आदेश को सर आँखों पर रखते हैं। सरकार के इस आदेश से नोट छापने पर रिजर्व बैंक का एकाधिकार समाप्त होगा, जो लोकतंत्र की जीत है।”

गवर्नर ने आगे कहा कि “हमारी नोट छापने की क्षमता रिजर्व बैंक से बहुत ज्यादा है, जिसका उदाहरण देश के हर गली चौक की परचून की दूकान में हमारे बैंक के नोटों की मौजूदगी है।” एटीएम से भारतीय चिल्ड्रन बैंक के नोट निकलने की घटना पर उन्होंने कहा कि “बिना इजाजत हमारे बैंक के नोट इस्तेमाल किये जाने को लेकर हम रिज़र्व बैंक के खिलाफ कोर्ट में जाएंगे और न्यायिक जांच की मांग करेंगे।”

उधर, सरकार की इस घोषणा से बच्चों में ख़ुशी की लहर है। कई बच्चे रातों-रात इस घोषणा से लखपति हो गए हैं और वे अपना पेन कार्ड बनवाने के लिए निकल पड़े हैं। एक बच्चे ने नाम ना छापने की शर्त पर कहा कि “आज तक हम माँ-बाप से पकेट मनी लेते थे, अब वे हम से मांगेंगे। बहुत मज़ा आयेगा!”



ऐसी अन्य ख़बरें