Friday, 18th August, 2017

चलते चलते

बिहार में शराब पीकर फ़रार हुए 500 चूहे गिरफ़्तार, न्यायिक हिरासत में भेजे गये

05, May 2017 By बगुला भगत

पटना. बिहार पुलिस ने उन चूहों में से 500 पियक्कड़ चूहों को गिरफ़्तार कर लिया है, जो मालखाने में रखी 9 लाख टन शराब पीकर रफ़ूचक्कर हो गये थे। बाक़ी चूहों की तलाश में पुलिस पटना और आस-पास के इलाक़ों में छापेमारी कर रही है। पटना के एसएसपी मनु महाराज ने कोर्ट ले जाने से पहले आरोपी चूहों को मीडिया के सामने पेश करते हुए कहा- “देखिये, सालों की अभी तक नहीं उतरी!” हालांकि, चूहों की हालत को देखकर कहा नहीं जा सकता था कि वे पिटाई से बेहोश हुए हैं या दारू के नशे में हैं।

Rats liquor4
बोतल के साथ पियक्कड़ चूहा

जब एक पत्रकार ने उन्हें अपने मोबाइल पर वीडियो दिखाते हुए कहा कि “ये देखिये एसएसपी साब, सीसीटीवी फ़ुटेज में तो आपके पुलिसवाले ही शराब पीते दिख रहे हैं।” इस पर महाराज ने हंसते हुए कहा कि “आप भी झाँसे में आ गये! अरे भाई, ये कोई आम चूहे नहीं हैं! ये इच्छाधारी चूहे हैं, जो इंसानों का भेस बदलकर पी रहे हैं।”

इसके बाद उन्होंने बराबर में बैठे हवलदार की पीठ पर धौल जमाते हुए कहा “तिवारी बताता क्यूँ नहीं! उस रात जो तूने देखा था, बता दे इन सबको!” हवलदार तिवारी हकलाते हुए बोला- “हाँ, हमने ख़ुद अपनी इन आंखों से देखा था। एक चूहा पुलिस का भेस बदलकर दारु पी रहा था। जब हमने उसे पकड़ने की कोशिश की तो वो चूहा बनकर नाली में दौड़ गया, फिर सारी रात हम दोनों में चूहा-बिल्ली का दौड़ हुआ।”

इसके बाद एसएसपी साब ने वो पुलिस डायरी भी दिखायी, जिसमें कुछ चुहियाओं द्वारा शिकायत दर्ज करायी गयी थी कि उनके पति चूहे रोज़ दारू पीकर उन्हें पीटते हैं और सबसे झगड़ा करते हैं। चुहियाओं ने अपने नशेड़ी पतियों को अरेस्ट करने की रिक्वेस्ट भी की थी।

यह सब करने के बाद पुलिस ने सभी आरोपी चूहों को स्पेशल जज की अदालत में पेश किया, जहां से उन्हें पंद्रह दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। वहां भी वे बेहोशी की वजह से बयान देने की हालत में नहीं थे, इसलिये उनकी ख़ामोशी को उनका इक़बाले-जुर्म मान लिया गया।



ऐसी अन्य ख़बरें