Thursday, 18th January, 2018

चलते चलते

राहुल गांधी का 'न्यू ईयर रिजोल्यूशन'- "2018 में तो एक चुनाव जीतना ही है!"

01, Jan 2018 By बगुला भगत

नयी दिल्ली. नया साल आ गया है और उसी के साथ आ गयी है नये साल के रिजोल्यूशंस की बाढ़! लोग सिगरेट और दारू छोड़ने से लेकर ट्विटर तक छोड़ने के रिजोल्यूशन ले रहे हैं। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी बहती गंगा में हाथ धो लिया है यानि नये साल का रिजोल्यूशन ले लिया है। लेकिन जो रिजोल्यूशन उन्होंने लिया है, उसे सुनकर हर कोई अपने दाँतों तले उँगली दबा रहा है।

rahul-gandhi-new-year-resolution
बीजेपी को हराने का संकल्प लेते राहुल जी

उन्होंने कांड ही कुछ ऐसा किया है! राहुल ने संकल्प लिया है कि वो 2018 में कम से कम एक चुनाव ज़रूर जीतकर दिखाएंगे। “इस नये साल में तो मैं कोई ना कोई चुनाव जीतकर दिखाऊँगा ही!” -उन्होंने कुर्ते की बाजू ऊपर चढ़ाते हुए कहा।

“वैसे, एक बहुत कांटे का चुनाव (कांग्रेस के अध्यक्ष पद वाला) तो मैंने 2017 में जीत लिया है, लेकिन मैं मोदी जी को हराना चाहता हूँ। उन्हें हराने का मज़ा ही कुछ और है!” -उन्होंने बाजू को थोड़ा और ऊपर चढ़ाते हुए कहा।

जैसे ही कांग्रेस के नेताओं ने उनका यह रिजोल्यूशन सुना, वे जोश में आकर नारे लगाने लगे- “राहुल तुम रिजोल्यूशन लो, हम तुम्हारे साथ हैं!”…”2018 में आयी आंधी, नाम है जिसका राहुल गांधी!”

इन नारों के उलट, कुछ कांग्रेसी नेता ऐसे भी थे, जो यह कहते सुने गये- “तुमसे ना हो पायेगा बेटा!” “ये तो वो ही बात हो गयी, जैसे कोई मैकेनिकल इंजिनयरिंग का स्टूडेंट कहे कि इस साल मैं लड़की पटा लूँगा!” -एक नेताजी ने हँसी दबाते हुए कहा।

उधर, बीजेपी नेताओं ने इस पर भी चुटकी लेना शुरु कर दिया है। बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि “सिगरेट छोड़ने में और मोदी जी को हराने में ज़मीन-आसमान का फ़र्क है। राहुल बाबा को कोई ऐसा रिजोल्यूशन लेना चाहिये था, जिसे वो पूरा कर पाते। जैसे- छुट्टी मनाने विदेश चला जाऊँगा या पीडी को ट्वीट करना सिखा दूँगा!”



ऐसी अन्य ख़बरें