Thursday, 19th January, 2017
चलते चलते

यूपीः PWD ने उस सड़क की मरम्मत कर दी, जिधर से मंत्री जी को नहीं गुज़रना था; चीफ़ इंजीनियर सस्पेंड

09, May 2016 By बगुला भगत

ग़ाज़ियाबाद. यूपी में एक बार फिर सरकारी अफ़सरों की भयंकर लापरवाही सामने आयी है। राज्य के लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों ने उस सड़क की मरम्मत कर दी, जिस सड़क से मंत्री जी का काफ़िला नहीं गुज़रना था।

Road
ज़िंदगी में पहली बार सड़क को बनता देखते इलाक़े के लोग

घटना दो दिन पहले की है। पीडब्ल्यूडी मिनिस्टर और मुख्यमंत्री के चाचा शिवपाल सिंह यादव को ग़ाज़ियाबाद में एक सपा नेता के बेटे की शादी में आना था। पूरा सरकारी तंत्र उनके स्वागत की तैयारियों में जुटा था। डीएम सारा काम-धाम छोड़कर ख़ुद मोर्चे पे डटे हुए थे।

जिस रूट से मंत्री जी का काफ़िला गुज़रना था, उस रूट की सारी सड़कें नयी बनायी जा रही थीं- बॉलीवुड की हीरोइन के गालों की तरह चमाचम!

लेकिन एक गड़बड़ हो गयी। इस आपाधापी में पीडब्ल्यूडी वालों ने एक ऐसी सड़क के गड्ढे भी भर दिये, जिधर से मंत्री जी को जाना ही नहीं था और जिधर से वो गुज़रे, वो सड़क वैसी ही छोड़ दी।

मंत्री जी को उस सड़क पे धचके लगे तो वो नाराज़ होकर बीच रास्ते से ही वापस लौट गये। घटना का पता चलते ही सारे अधिकारियों के हाथ-पांव फूल गये।

चीफ़ इंजीनियर गुप्ता जी ने जेई को डांटते हुए कहा- “फिलहाल चुनाव भी नहीं हैं। अब पब्लिक को क्या जवाब देंगे? ये सड़क क्यूं बनवा दी?” उनकी हां में हां मिलाते हुए एक्सीएन बोला- “और वो इतनी ख़राब भी नहीं थी। अभी दो साल पहले ही तो टूटी थी। टू-व्हीलर भी आराम से आ-जा रहे थे। बस, फोर-व्हीलर के निकलने में दिक़्क़त थी!”

“बट सर, अब तो बन गयी। ये बताओ, अब क्या करें?” -जेई ने कहा। “करना क्या है! तोड़ो साली को!” -गुप्ता जी चिल्लाते हुए बोले।

अंतिम समाचार लिखे जाने तक कर्मचारी उस नयी बनी सड़क को तोड़ रहे थे और गुप्ता जी अपना सस्पेंशन ऑर्डर रिसीव कर रहे थे।



ऐसी अन्य ख़बरें