Friday, 24th November, 2017

चलते चलते

12 बजे के बाद छत पर टहल रही थी युवती, नेता ने कहा ''12 बजे के बाद घर से नहीं निकलती लड़कियां''

08, Aug 2017 By banneditqueen

हरियाणा. चंडीगढ़ स्टाकिंग केस के बाद कई नेताओं का कहना है कि लड़की 12 बजे के बाद घर के बाहर क्या कर रही थी। लड़के पीछा ही इसीलिए कर रहे थे ताकि उसे रोककर बता सकें कि उसका बारह बजे के बाद घूमना ठीक नहीं। लड़को को ज़बरदस्ती ही पीछा करने के आरोप में दोषी ठहराया जा रहा है वो तो दरअसल युवती की मदद कर रहे थे। हरियाणा के बीजेपी नेता के घर में भी इसी बात को लेकर कल बवाल हुआ।

woman roamingबीजेपी नेता शैलेश रावत की मंझली बेटी रानी छत पर खेल रही थी। अचानक उसका पैर फिसला और वो गिर गयी. चीखने चिल्लाने की आवाज़ सुन कर सभी घरवाले इकठ्ठा हुए और उसे तुरंत अस्पताल ले गए। जब नेताजी को ये बात पता चली तो उन्होंने सबसे पहले पूछा ”कितने बजे बाहर गयी थी रानी?” इस पर रानी की माँ ने जवाब दिया ”बाहर नहीं गयी थी छत पर खेल रही थी? और समय से क्या लेना देना है उसके फिसलने का?” नेताजी ने गुस्से में दुबारा पूछा ”कितने बजे बाहर थी वो?”

रानी की माँ ने जवाब दिया ”जी लगभग 12.30 बजे।” इतना सुनते ही नेताजी आगबबूला हो गए और बोले ”कितनी बार कहा है लड़कियों को बारह बजे के बाद घर से बहार नहीं निकलना चाहिए।” ”पर जी वो तो छत पर ही थी। .” रानी की माँ ने बचाव करने की कोशिश की पर नेताजी ने एक ना सुनी और दस बजे ही छत के दरवाज़े बंद करने का निर्देश दे डाला।



ऐसी अन्य ख़बरें