Sunday, 22nd October, 2017

चलते चलते

बीएचयू की छात्राओं को 'मन की बात' नहीं सुनने दी, योगी से नाराज़ हुए पीएम मोदी

24, Sep 2017 By बगुला भगत

वाराणसी/नयी दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री योगी से बुरी तरह नाराज़ हो गये हैं। मोदी जी इस बात से भड़के हुए है कि योगी जी ने बीएचयू (बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी) की छात्राओं को उनके ‘मन की बात’ नहीं सुनने दी। अपने संसदीय क्षेत्र में छात्राओं पर हुए इस जुल्म से उनका मन बहुत खिन्न हो गया है।

BHU Protest
‘मन की बात’ सुनने की मांग करती बीएचयू की छात्राएं

पीएमओ के सूत्रों के मुताबिक, योगी जी ने ‘मन की बात’ को सुनने के कोई इंतज़ाम नहीं किये, जबकि छात्राएं दो दिन से ‘मन की बात’ सुनने के लिये प्रदर्शन रही थीं। वे तो रोड शो में भी आना चाहती थीं, लेकिन योगी जी ने पुलिस लगा दी और उन्हें नहीं आने दिया।

पीएम की ज़्यादा नाराज़गी इस बात से है कि पुलिस ने लड़कियों को हॉस्टलों में उनके कमरों से खींच-खींचकर निकाला और उन पर लाठीचार्ज किया। जिस वजह से कई लड़कियों के रेडियो सेट भी टूट गये और वे ‘मन की बात’ सुनने से वंचित रह गयीं।

“वो आंदोलन कर रही छात्राओं से क्यों नहीं मिले, वो रास्ता बदलकर क्यों चले आये?” इस पर पीएमओ के अधिकारी ने कहा कि “प्रधानमंत्री जी को अपने ‘मन की बात’ के लिये तुरंत दिल्ली लौटना था, जिसमें उन्हें देश की बेटियों के नाम कई अच्छे-अच्छे मैसेज देने थे। इसलिये शॉर्टकट लेकर जल्दी चले आये।”

इसके उलट, बीजेपी के एक नेता का कहना है कि सच्चाई कुछ और है! “असल में, आपको तो पता है कि हमारे मोदी जी कितनी छोटी-छोटी बातें पे इमोशनल हो जाते हैं। जब वो किसी गाय के बछड़े को भी दुखी नहीं देख सकते, तो अपनी बेटियों पर लाठीचार्ज कैसे देख सकते थे! इसलिये दिल पर पत्थर रखकर उन्होंने अपना रूट बदल दिया।” -नेताजी ने ख़ुलासा करते हुए कहा।

“उनका मन इतना विचलित हो गया कि उन्होंने तुरंत गौशाला जाकर गायों को पुचकारा और एक मंदिर में जाकर पूजा की। तब कहीं जाकर उनके मन को शांति मिली!” -कहते कहते की नेताजी की आँखें नम हो गयीं।

इस बीच, मोदी जी के नाराज़ होने से बीएचयू के कुलपति गिरीश चंद्र त्रिपाठी भी डर गये हैं। त्रिपाठी जी ने एलान किया है कि कैंपस में जल्दी ही ‘सेल्फ़ी विद डॉटर’ अभियान चलाया जायेगा क्योंकि वो कैंपस की सभी छात्राओं के पिता समान हैं।



ऐसी अन्य ख़बरें