Monday, 20th November, 2017

चलते चलते

पीएम ने हटवाई लाल बत्ती, विधायक के चाचा के लड़के के बेटे के जीजा का भाई दुखी

20, Apr 2017 By banneditqueen

एजेंसी. प्रधानमंत्री मोदी ने जब से कार्यकाल संभाला है सभी नेताओं को सड़क पर ले आए हैं। पहले स्वच्छता अभियान में नेताओं से सड़क पर झाड़ू लगवाया, फिर उनसे उनके कामों का हिसाब माँगा और अब उनकी लाल बत्ती भी छीन ली। एक मई से किसी भी नेता या सरकारी अफसर की गाड़ी पर लाल बत्ती नहीं होगी और केवल इमरजेंसी सेवाओं के लिए ही लाल बत्ती का इस्तेमाल किया जाएगा। इस बात को जानने के बाद जहां आम जनता खुश है कि वीआईपी कलचर ख़त्म होगा, वहीं नेता दुखी हैं।

अब कैसे जमाएंगे लोगों पर रौब
अब कैसे जमाएंगे लोगों पर रौब

एक नेता ने बताया ”पहले तो लाल बत्ती देखते ही लोग सलाम ठोकते थे, टोल नाके पे पैसा दो या ना दो चल जाता था। नहीं तो टोल भरने की जगह दो चार थप्पड़  रसीद दो तो टीवी पर जाते थे। अब तो अर्नब भी गायब है तो आराम से जिसको मर्ज़ी हो थप्पड़ मार दो। अब तो सब ठाठ गया, अपने पोते पोतियों को भी नहीं दिखा पाएंगे।” तभी हमारे पत्रकार ने बाहर एक 20-21 साल के युवक को रोते हुए देखा, पत्रकार ने उससे पूछा कि आखिर रो क्यों रहे हो तो उसने बताया कि ”अब क्या बताएँ, ताऊ जी विधायक हैं तो उसी शौक में अपनी गाड़ी पर भी विधायक लिखवा लिया। कभी किसी पुलिसवाले ने नहीं रोका, जिसने रोका भी तो हम रौब जमा कर बोलते थे ‘जानते हो यहां के विधायक हमारे ताऊजी हैं’ इतना सुनते ही पुलिसवाले तुरंत छोड़ देते थे। कई बार ताऊजी की गाड़ी लेकर कॉलेज चले जाते थे तो लाल बत्ती देख जूनियर-सीनियर सब सलाम ठोकते थे। अब गाड़ी ले जाकर भी फायदा नहीं है, कौन ध्यान देगा।”

पत्रकार ने उस युवक से जब पूछा कि क्या विधायक जी सगे ताऊजी हैं, तब युवक ने जो जवाब दिया वह सुनकर हमारे पत्रकार दंग रह गए। युवक ने जवाब दिया ”ताऊजी के चचा के जो लड़के हैं वो हमारे भैया के ससुर हैं, मतलब कि हमारे भैया इनके चाचा के लड़के के जीजा हैं।” ये सब सुनकर हमारे पत्रकार का सर चकरा गया, अभी पत्रकार अस्पताल में भर्ती हैं।



ऐसी अन्य ख़बरें