Sunday, 25th February, 2018

चलते चलते

"अगर कोई व्हॉट्सएप पे रोज़ 200 मैसेज फ़ॉरवर्ड कर रहा है तो वो भी तो रोज़गार है" –प्रधानमंत्री मोदी का नया बयान

30, Jan 2018 By बगुला भगत

नयी दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रोज़गार पैदा करने के रोज़ नये-नये तरीक़े खोज रहे हैं। अब उन्होंने व्हॉट्सएप, ट्विटर और फ़ेसबुक पर चिपके पड़े लोगों को भी ‘कामकाज’ में लगे हुए बता दिया है।

Whatsapp-employment
व्हॉट्सएप के रोज़गार में लगे कुछ युवक

विज्ञान भवन में आयोजित ‘युवा संसद’ कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, “अगर कोई युवक अपने घर पे पड़ा व्हॉट्सएप पे रोज़ 200 मैसेज फ़ॉरवर्ड कर रहा है तो क्या वो रोज़गार नहीं है क्या! भाईयो-बहनो, मैं आपसे पूछता हूँ, वो रोज़गार नहीं है क्या?”

इस सवाल पर हॉल में सन्नाटा छा गया लेकिन सन्नाटे से बेपरवाह मोदी जी बोलते रहे- “इस व्हॉट्सएप की बदौलत आज मेरे करोड़ों नौजवान साथी ना सिर्फ़ रोज़गार पा रहे हैं बल्कि दूसरों को रोज़गार दे भी रहे हैं। और वो कैसे दे रहे हैं, ये मैं आपको बताता हूँ!”

“उनके पास जो भी आलतू-फालतू मैसेज आता है, उसे फ़ॉरवर्ड करके!” -उन्होंने ज़ोर से ताली बजाते हुए कहा।

फिर वो लोगों को अपना मोबाइल दिखाते हुए बोले, “मैंने ट्विटर पे भी करोड़ों लोगों को रोज़गार दिया है। वहाँ कुछ लोग मेरे पक्ष में तो कुछ मेरे विरोध में लगे पड़े हैं लेकिन काम दोनों को बराबर मिल रहा है।”

कार्यक्रम के बाद फ़ेकिंग न्यूज़ संवाददाता से ‘ऑफ़ द रिकॉर्ड’ बातचीत में मोदी जी ने कहा कि “सच्ची बताऊँ! कभी-कभी तो मन करता है कि ये व्हॉट्सएप-पॉटसैप सब बंद कर दूँ लेकिन फिर ये सोचकर चुप लगा जाता हूँ कि इससे करोड़ों लोग बेरोज़गार हो जाएंगे और नौकरी माँगने मेरे घर आ जाएंगे।”

“इसलिए अपनी भलाई इसी में है कि जो जहाँ लगा पड़ा है, लगा रहने दो…उसे छेड़ो मत!” -वो ये कह ही रहे थे कि तभी उनके व्हॉट्सएप पर गडकरी जी का एक नया मीम आ गया, जिसे देखकर वो दहाड़े मार-मारकर हँसने लगे।



ऐसी अन्य ख़बरें