Sunday, 22nd October, 2017

चलते चलते

'सपनों का भारत' बनने में 4-5 दिन आगे-पीछे भी हो सकते हैं -प्रधानमंत्री मोदी ने आगाह किया

27, Nov 2016 By बगुला भगत

नयी दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘सपनों का भारत’ बनने की डेट में संशोधन कर दिया है। उनका कहना है कि इसमें चार-पांच दिन आगे-पीछे भी हो सकते हैं। अपने रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ में राष्ट्र को संबोधित करते हुए उन्होंने इस संशोधन की जानकारी दी।

Modi Mann
एक बार फिर अपने ‘मन की बात’ करते हुए पीएम मोदी

‘मन की बात’ करते हुए उन्होंने कहा, “बहनो-भाईयो, आप exact पचास दिन मानकर ना चलें। आपके ‘सपनों का भारत’ बनाने में मुझे कुछ दिन ज़्यादा भी लग सकते हैं या हो सकता है कि वो कुछ दिन पहले ही बन जाये। कुछ पक्का नहीं है!”

“लेकिन आप अपने जश्न की पूरी तैयारी करके रखो! आप लोगों ने जो पटाखे और फुलझड़ियां ख़रीद के रखी हैं, वो बेकार नहीं जायेंगी। मेरे प्यारे देशवासियो, मैं आपको भरोसा दिलाता हूं। ”

प्रधानमंत्री के इस बयान के बाद लोगों में भ्रम की स्थिति बन गयी है। अब यह मांग उठने लगी है कि मोदी जी एक बार कोई फिक्स डेट दे दें। ये ना हो कि आज 5, फिर 10 और फिर 25 दिन मांगने लगें। और वो ये भी बता दें कि वो किसके सपनों का भारत बनाने वाले हैं क्योंकि सबके ‘सपनों का भारत’ अलग-अलग हैः नेता का अलग, बिज़नेसमैन का अलग, सरकारी अफ़सर का अलग, ठेकेदार का अलग और ग़रीब-मज़दूर का अलग!

फ़ेकिंग न्यूज़ से बात करते हुए मनोहर नाम के एक परचूनवाले ने कहा कि “जैसे कांग्रेस ने ग़रीबी मिटा दी, वैसे ही मोदी जी हमें सपनों का भारत देंगे। हम तो पहले ही कह रहे थे कि ये एक और नया जुमला है और कुछ नहीं!” इसके उलट, दिल्ली के धौला कुआँ इलाक़े में ऑटो चलाने वाले रमेश का कहना है कि “4-5 दिन और सही! जहां हम 50 दिन वेट करते, वहीं 55 दिन भी कर लेंगे। बस हमारा काम हो जाना चाहिये!”



ऐसी अन्य ख़बरें