Thursday, 18th January, 2018

चलते चलते

हंटर लेकर जेटली के सपने में पहुंचे मोदी, कहा- "आखिरी बजट है, गुड़-गोबर मत कर देना!"

10, Jan 2018 By Ritesh Sinha

नयी दिल्ली. माना जा रहा है कि वित्त मंत्री अरुण जेटली एक फरवरी को बजट पेश कर सकते हैं, और वो इसकी तैयारियों में जुट भी गए हैं। चूँकि 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले मोदी सरकार का यह आखिरी बजट होगा इसलिए मोदीजी आजकल काफी टेंशन में रहते हैं, उन्हें डर है कि कहीं जेटली कबाड़ा ना कर दें। इसीलिए वो कल जेटली जी के सपनों में रिपोर्ट लेने पहुँच गए।

modi-jaitley2
मोदी जी को देखने के बाद जेटली जी का चेहरा

एक हाथ में हंटर, रंग-बिरंगी शर्ट और सर पे इटैलियन भारतीय टोपी चढ़ाए वो जेटली के सपने में प्रकट हुए। उन्होंने हंटर घुमाते हुए कहा, “मित्र जेटली! चुनाव जीतने दोगे कि नहीं? आखिरी बजट है, देख लेना! कहीं जीएसटी जैसा गुड़-गोबर मत कर देना!”

“आप चिंता मत कीजिए! किसी के पास कुछ नहीं छोडूंगा! चुन-चुन के बदला लिया जाएगा!” -वित्त मंत्री ने सपने में ही जवाब दिया। जेटली जी का जवाब सुनकर मोदीजी माथा पकड़कर बैठ गए। ‘क्या हुआ? कुछ गलत कह दिया क्या?” -जेटली ने पूछा।

मोदीजी ने ज़ोर से हंटर घुमाया और झुंझलाकर बोले- “वही हुआ जिसका मुझे डर था! दिन भर पैसा ऐंठने के जुगाड़ में लगे रहते हो! कान खोलकर सुन लो! इस बार आपको ‘वसूली भाई’ का रोल नहीं मिला है, बल्कि इस बार तो दिल खोलकर खर्चा करना है! समझे कि नहीं?”

मोदीजी का ग़ुस्सा देखकर जेटलीजी को कुछ होश आया और वो बोले- “अरे! मैं तो भूल ही गया था कि.. अच्छा हुआ जो आपने मुझे चेता दिया वरना मैंने तो सात-आठ सेस लगाने का प्लान बना लिया था! अब आप टेंशन मत लो! मैं सब ठीक कर दूँगा? अब आप प्रस्थान करें!”

फिर भी मोदीजी का वहां से जाने का मन ही नहीं कर था, उन्होंने हंटर दूर फेंक दिया और लगभग हाथ जोड़ते हुए बोले- “देख लेना जेटलीजी! कोई गलती ना हो जाए इस बार!” “ठीक है! मैं समझ गया! अब मुझे चैन से सोने दीजिए!” -कहते हुए उन्होंने मोदीजी को विदा कर दिया। अब देखना है कि जेटलीजी को रात वाली बात याद रहती है कि नहीं!



ऐसी अन्य ख़बरें