Saturday, 24th June, 2017
चलते चलते

उड़ी हमलाः ग़ुस्से में नवाज़ शरीफ़ वाली हॉटलाइन का तार काटकर फेंका मोदी जी ने

18, Sep 2016 By बगुला भगत

नयी दिल्ली. उड़ी में हुए आतंकी हमले के बाद प्रधानमंत्री मोदी को आज अचानक बहुत ज़्यादा ग़ुस्सा आ गया। इतना ग़ुस्सा आया…इतना ग़ुस्सा आया कि उन्हें होश ही नहीं रहा कि वो क्या कर रहे हैं। ग़ुस्से में बदहवास होकर उन्होंने उस हॉटलाइन का तार ही काटकर फेंक दिया, जो उन्होंने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ से बात करने के लिये अपने हाथों से चालू करवायी थी।

Modi9
हॉटलाइन के तार को ग़ुस्से से घूरकर देखते मोदी जी

प्रधानमंत्री निवास के कर्मचारी जीवनराम ने कांपते हुए बताया कि “आज तो सर बहुत भड़के हुए थे। हमने उन्हें रोकने की बहुत कोशिश की लेकिन उन्होंने हमारी एक ना सुनी। उन्हें जो करना था वो करके ही माने।” जीवन ने उस मंज़र को याद करते हुए कहा- “उन्होंने शरीफ़ को इतनी गालियां सुनाईं, इतनी गालियां सुनायीं कि मैं बता नहीं सकता!”

“मैंने बहोत कहा- सर, तार को मत काटो…बेमतलब में खर्चा बढ़ जायेगा। कुछ दिन बाद आपको नवाज पे फिर प्यार उमड़ आयेगा और आप इसे फिर जुड़वाओगे, लेकिन वो तार काटकर ही माने और फिर फ़ोन को भी उठाकर ज़मीन पर पटक दिया। फिर थोड़ी देर बाद मुझसे कहने लगे ये एंगर मैनेजमेंट थ्योरी है जीवन! इस तरह हमारे मन का सारा ग़ुबार निकल जाता है और हम शांत हो जाते हैं।”

“इससे पहले मोदी सर ने शरीफ़ सर को 6 जुलाई को ईद की बधाई देने के लिये फ़ोन किया था। कितना हंस-हंसकर बोल रहे थे उस दिन! बधाई के साथ-साथ सरजी ने शरीफ़ जी के जल्द स्वस्थ होने की कामना भी की थी। शरीफ़ सर ने भी अपने दिल के ऑपरेशन से पहले सरजी को ही फ़ोन किया था। उस दिन भी ये बहुत ख़ुश थे लेकिन आज…आज तो पता नहीं इन्हें क्या हो गया था!” -कहते कहते जीवनराम फिर से कांपने लगा।

उधरस 7, आरसीआर के पड़ोस वाले बंगले में रहने वाले एक बुज़ुर्ग ने भी नाम ना छापने की शर्त पर बताया कि “मोदी जी इतनी ज़ोर से चिल्ला रहे थे कि हमारे घर तक एकदम साफ़ आवाज़ आ रही थी। हम कई सालों से यहां रह रहे हैं लेकिन इतने ग़ुस्से वाला प्रधानमंत्री पहले कभी नहीं देखा!”



ऐसी अन्य ख़बरें