Friday, 18th August, 2017

चलते चलते

खेत में हवाई जहाज़ उतार कर भागे पायलट और को-पायलट जग्गाराम और छोटू

27, Dec 2016 By cobratanktimes

नयी दिल्ली. देश की राजधानी के निकटवर्ती गाँव टीकानगर में कल सुबह उस समय हड़कंप मच गया, जब वहां एक खेत में एक एयरोप्लेन उतर गया। गांव के लोग रोज़ की तरह खेतों में हल्का होने गए थे कि तभी उन्होंने उस जहाज़ को उतरते देखा, जिसके चलते उनको दो नंबर का काम 10 मिनट की जगह 2 सेकंड में करके भागना पड़ा। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक यह सब इतनी जल्दी हुआ कि जब तक वे अपना होश, लोटा और पजामा सम्भाल पाते, तब तक पायलट और को-पायलट विमान के कॉकपिट से छलांग मारके भाग चुके थे और पास से गुजर रहे हाईवे पर जा रही रोडवेज की बस पे लटक कर निकल लिए।

खेतों में उतरे प्लेन को देखने जुटे गांव वाले
खेतों में उतरे प्लेन को देखने जुटे गांव वाले

भ्रम और असमंजस की स्थिति मे खड़े एक पैसेंजर ने पत्रकारों से बातचीत में बताया कि निजी कंपनी का ये विमान जयपुर से उड़ान भरने के 15 मिनट बाद ही अचानक नीचे आने लगा। हमें पायलट की घोषणा सुनायी दी कि  “विमान थोड़ी ही देर मे 30 मिनट के लिए मिड-वे पर रुकेगा, जिसको भी चाय-नाश्ता, पेशाब वगैरह करना हो वो कर लें।” यह कहकर पैसेंजर बाजू के खेत में हल्का होने चला गया।

इस मामले पर स्पष्टीकरण देते हुए DGCA के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि दिल्ली एयरपोर्ट पर पायलट्स और को-पायलट्स के लाइसेंस की सरप्राइज चेकिंग की जा रही थी, जिसकी भनक लगने पर विमान के पायलेट ‘जग्गा राम’ और को-पायलट ‘छोटू’, जो कि अनाधिकृत रूप से बिना लाइसेंस विमान उडा रहे थे, वे विमान को खेत मे ही उतार के भाग निकले। प्राथमिक जांच में सामने आया है कि जग्गा राम और छोटू पहले हरियाणा रोडवेज़ मे कार्यरत थे और वहाँ उन पर अनाधिकृत रूप से बसें उड़ाने के कई मामले दर्ज हैं।

खबर लिखे जाने के समय तक दोनों अपराधी पुलिस की गिरफ्त से बाहर थे, जबकि टीकानगर मे घटना के 12 घण्टे बाद भी हालात सामान्य नहीं हो पाये थे। अभी भी कई लोग अपने बिछड़े हुए लोटों की तलाश मे लगे हैं और कुछ यात्रि कानों में इयरफोन ठूंस कर भैंसों की कतार को कन्वेयर बेल्ट समझकर अपने सामान का इन्तजार कर रहे हैं।



ऐसी अन्य ख़बरें