Friday, 24th November, 2017

चलते चलते

राहुल गांधी के अचानक विदेश दौरों के दौरान 'पीडी' करेंगे मीडिया को सम्बोधित

01, Nov 2017 By Guest Patrakar

नयी दिल्ली. राहुल गांधी जब भी कुछ करते है तो उस पर जोक बन जाते हैं। जितनी मेहनत से मीडिया, काँग्रेस और अन्य लोग मोदी को घेरने की कोशिश करते है, उस से कम मेहनत में राहुल गांधी अपनी एक हरकत से उस सारे किये-कराये पर पानी फेर देते हैं। बीते दिनों भी ऐसा ही हुआ, जब राहुल ने अपने ट्विटर अकाउंट @officeofrg से ट्वीट किया कि उनके ट्वीट कोई और नहीं बल्कि उनका कुत्ता ‘पीडी’ करता है। इसके बाद सोशल मीडिया पर हल्ला मच गया। पीडी इतना मशहूर हो गया कि काँग्रेस ने यहाँ तक कह दिया कि “राहुल जी की ग़ैर-हाज़िरी में पीडी जी ही मीडिया को संबोधित करेंगे।”

Rahul Gandhi
पीडी को प्रेस कॉन्फ्रेंस के लिये ट्रेनिंग देते राहुल गांधी

ऐसा पहली बार नहीं हुआ है, जब किसी इंसान की जगह एक कुत्ते ने ले ली हो। ग़ौरतलब हो कि Vodafone द्वारा idea को ख़रीदे जाने के बाद भी अभिषेक की जगह Vodafone के विज्ञापनों में आने वाले कुत्ते ने ले ली थी।

सोशल मीडिया पर पीडी के फ़ेमस होते ही काँग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह की तबियत बिगड़ गई। उनके क़रीबियों का कहना है कि वो अपनी गद्दी छिनते देख निराश हो गए हैं। हमने इस बारे में पी चिदम्बरम से बात की। उन्होंने कहा कि “हमने राहुल जी को बहुत मौक़े दिए लेकिन वो भारतवासियों का दिल जीतने में क़ामयाब नहीं हो पाये। और वहीं पीडी जी ने पहले ही मौक़े पर चौका मार दिया। बस इसीलिए हम पीडी जी पर धीरे धीरे ज़िम्मेदारियों का बोझ डालेंगे, आख़िर वो भी बाक़ी काँग्रेसियों जैसे वफ़ादार हैं।”

हमने इस सब पर पीडी की राय जानने की कोशिश की लेकिन उसने कुछ भी बोलने से मना कर दिया। उसका ख़याल रख रहे संजय झा ने कहा “पीडी जी पक्के काँग्रेसी हैं, जब तक कुछ खाने को ना दो, तब तक मुँह नहीं खोलते।”

कहने वाले तो यहाँ तक कह रहे हैं कि यह सब काँग्रेस इसलिये कर रही है ताकि राहुल की ग़लतियों का इल्ज़ाम किसी ना किसी पर थोपा जा सके क्योंकि मनमोहन सिंह के PM पद से हटने के बाद वो जगह ख़ाली पड़ी हुई है। इसलिये अब यह देखना दिलचस्प होगा कि पीडी अपनी पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस में किस तरह से पेश आता है।



ऐसी अन्य ख़बरें