Wednesday, 25th April, 2018

चलते चलते

गीतकारों ने किया गुज़रे ज़माने के गीतकारों के खिलाफ प्रदर्शन, कहा ''गानों के रीमिक्स ने काम छीना''

22, Mar 2018 By banneditqueen

मुंबई. दो तीन दिन पहले ही तेज़ाब फिल्म का मशहूर गाना ‘एक दो तीन’ सुनाई पड़ा, पर कुछ क्षण बाद ही इस बात का एहसास हुआ कि ये तो पुराने ही गाने में नया तड़का डाल दिया है। आज के ज़माने में शायद ही कोई फिल्म हो जिस में किसी पुराने गाने का कचरा करके उसे दुबारा रिलीज़ ना किया गया हो। हालत तो ये हो गई है कि हिमेश रेशमिया जी भी अपने गानों को रीमिक्स कर दुबारा रिलीज़ कर रहे हैं। ऐसे में नए गीतकारों को अपना हुनर दिखाने का मौका नहीं मिल रहा है।

गाने का कचरा करते नए गीतकार
गाने का कचरा करते नए गीतकार

इस के चलते आज मुंबई में गीतकारों ने प्रदर्शन किया, एक प्रदर्शनकारी गीतकार से हमने बातचीत की। गीतकार ने बताया कि ”माना कि आजकल के गीतकार ढंग के गाने नहीं लिख पाते पर इसका मतलब यह तो नहीं है कि आप पुराने गाने में धिनचक संगीत डालकर उसे दुबारा रिलीज़ कर दो। आपकी पत्नी किसी दिन बेकार सब्ज़ी बनाएँ तो क्या आप किसी शेफ के घर का बासी खाना गरम कर के खाओगे क्या? ये पुराने हिट गीतों के चक्कर में हमारी रोज़ी रोटी छिन रही है। इसलिए हम आज यहाँ प्रदर्शन कर रहे हैं।”

गीतकार जावेद अख्तर भी इस प्रदर्शन में शामिल हुए, जब हमारे संवाद्दाता ने उनसे पूछा कि ”आपके भी तो को गाने रीमिक्स हुए हैं फिर आप यहाँ क्या कर रहे हैं? अपने ही खिलाफ प्रदर्शन करने आए हैं? इस पर जावेद अख्तर ने कहा ”अगर मैंने उस ज़माने में अच्छे गाने नहीं लिखे होते तो आज के समय में रीमिक्स नहीं बनते और मेरे पास भी गाने लिखने का मौका होता। इसलिए मैं अपने ही खिलाफ प्रदर्शन करने आया हूँ।”



ऐसी अन्य ख़बरें