Tuesday, 24th October, 2017

चलते चलते

बाहुबली-2 आने में हो गई एक साल की देरी, फिर भी जंतर-मंतर पर नहीं हुआ प्रदर्शन

23, Mar 2017 By Ritesh Sinha

नयी दिल्ली. हमारे देश में समस्या चाहे तिल के बराबर हो या पहाड़ जैसी, सबके प्रदर्शन करने की फेवरेट जगह जंतर-मंतर ही है। देश भर के लोग आये दिन जंतर-मंतर पे इकट्ठा होकर दिल्ली को हिलाते रहते हैं। जैसे हिंदुओं को गंगा में डुबकी लगाकर मोक्ष मिलता है, वैसे ही प्रदर्शनकारियों को जंतर-मंतर पर नारा लगाकर सुख-चैन की प्राप्ति होती है। लेकिन इसके बावजूद एक बड़ा मुद्दा प्रदर्शन-प्रेमियों के हाथ से निकल गया, जिस पर हंगामा करने एक भी बंदा जंतर-मंतर पर नहीं पहुंचा। और वो मुद्दा है बाहुबली-2 की रिलीज में हुई देरी का!

Protest
अगर कुछ चाहिये तो यहां तो आना ही पड़ेगा

देश भर के समाजशास्त्रियों को हैरानी हो रही है कि इस मुद्दे पर किसी ने भी आवाज़ क्यों नहीं उठाई!। कोई सरकार से नहीं पूछ रहा कि बाहुबली का दूसरा पार्ट आने में इतनी देरी कैसे हो गयी। जबकि बाहुबली के प्रोड्यूसर ने वादा किया था कि अगले पार्ट को 2016 में रिलीज कर दिया जाएगा ताकि बाहुबली की मौत का रहस्य सबको पता चल सके। देश का बच्चा-बच्चा यह जानने के लिये मरा जा रहा था कि कटप्पा ने बाहुबली को क्यों मारा! लेकिन प्रोड्यूसर साब ने अपना वादा नहीं निभाया।

काम में इतनी भयंकर लापरवाही होने के बावजूद किसी ने भी जंतर-मंतर पर उनके खिलाफ प्रदर्शन नहीं किया। कोई माई का लाल ये पूछने की हिम्मत नहीं कर पाया कि भाई इतनी देरी कैसे हो गई? उल्टे देश की जनता सारे गम भूलकर ट्रेलर रिलीज होने का जश्न मना रही है। सब ‘फर्स्ट डे-फर्स्ट शो’ की जुगाड़ में लग गए हैं।

जंतर-मंतर पर असहिष्णुता के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे एक एक्टिविस्ट झुमरू लाल ने बताया कि “देखिए! ये बहुत अफ़सोस की बात है! पूरे एक साल तक राजमौली ने दर्शकों को अँधेरे में रक्खा कि 2016 में फिलीम रिलीज कर दूंगा। लेकिन जनाब अभी तो ट्रेलर ही रिलीज कर रहे हैं। ये सरासर अन्याय है, ऐसी घटनाएं लोकतंत्र के लिए अच्छा संकेत नहीं है। मैं इसकी कड़ी निंदा करता हूँ। हमें हर मुद्दे को जंतर-मंतर तक जरूर घसीटना चाहिए।” -कहते हुए वे राजमौली के खिलाफ नारे लगाने लगे।

उधर, बाहुबली के फैन्स को इस देरी से कोई शिकायत नहीं है। प्रभाष और कटप्पा की बॉडी के डाई-हार्ड फैन चंदू चौहान ने बताया कि “अबे! दूसरा पार्ट एक साल बाद आए या चार साल बाद, तुझे क्यों मिर्ची लग रही है? फिलीम देखनी है तो देख नहीं तो कल्टी हो जा!” -कहते हुए चंदू ने हमारे रिपोर्टर को वहां से भगा दिया।



ऐसी अन्य ख़बरें