Saturday, 23rd September, 2017

चलते चलते

अब अन्य राज्यों में बसे बिहारियों के पीने पर भी बैन लगाएंगे नीतीश, पूरे देश में उबाल

18, Aug 2017 By बगुला भगत

पटना/मुंबई/दिल्ली/बैंगलोर/गुरुग्राम. लगता है कि पीने वालों ने बिहार की धरती पर जन्म लेकर कोई पाप कर दिया है। भाई लोगों की मुसीबतें कम होने का नाम ही नहीं ले रही हैं! मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को लालू और तेजस्वी से फ़ुर्सत मिली तो वो फिर से शराब पीने वाले लोगों के पीछे पड़ गये।

nitish-liquor-ban
बाहर बसे पियक्कड़ बिहारियों पर धावा बोलते नीतीश बाबू

सुशासन बाबू ने अब राज्य से बाहर बसे बिहारियों पर धावा बोलते हुए कहा है कि “मैं बिहारियों को दुनिया में कहीं भी नहीं पीने दूँगा!” उनका कहना है कि शराब बैन का पूरा फ़ायदा नहीं हो रहा है क्योंकि लोग दूसरे राज्यों में जाकर अभी भी पी रहे हैं और राज्य का नाम बदनाम कर रहे हैं।

असल में, शरबती देवी नामक एक महिला ने नीतीश बाबू से शिकायत की थी कि उसका बेटा दिल्ली के मुखर्जी नगर में रहकर सिविल एग्ज़ाम की तैयारी कर रहा है, जहाँ वो हर दूसरे दिन दोस्तों के साथ पार्टी करता रहता है। इसी तरह, मुंबई में रहने वाले बिहारियों के घरवालों से भी शिकायतें मिल रही थीं। सब यही मांग कर रहे थे कि जो बाहर जाकर पी रहे हैं, उनके पीने पर भी रोक लगनी चाहिये।

हाल ही में हुए एक सर्वे में भी पाया गया है कि पिछले साल लागू की गयी शराबबंदी के बाद बिहार से दूसरे राज्यों में पलायन बढ़ा है, और इसकी एक बड़ी वजह शराब भी है! जिन लोगों को शराब की लत है, वे बिहार छोड़-छोड़कर जाने लगे हैं।

चूंकि बिहारी देश के लगभग सभी राज्यों में फैले हुए हैं, इसलिये उन्हें पकड़ने के लिये बहुत बड़े पैमाने पर पुलिसकर्मियों की ज़रूरत पड़ेगी। मुख्यमंत्री जी ने बताया कि इसके लिये जल्दी ही पुलिस और आबकारी विभाग में युद्ध स्तर पर भर्तियाँ की जाएंगी। उन्होंने अपना संकल्प दोहराते हुए कहा कि “ये पीने वाले कहीं भी चले जायें, हम उन्हें हलक में दारू का एक घूंट भी नहीं उतारने देंगे!”

जब हमारे रिपोर्टर ने नीतीश जी से पूछा कि “आप दिल्ली और मुंबई में पियक्कड़ बिहारियों की पहचान कैसे करेंगे?” तो इस पर वो मुस्कुराते हुए बोले कि “बिहारी, बिहारी को एक मील दूर से पहचान लेता है। और पीने वाले का तो हमें पांच कोस से पता चल जाता है।”



ऐसी अन्य ख़बरें