Thursday, 27th April, 2017
चलते चलते

"नये साल पर आसमान से बरसेंगे 500 और 2000 के नए नोट, अपना आधार और पैन कार्ड लेकर छत पर खड़े रहें!"

29, Dec 2016 By cobratanktimes

नयी दिल्ली. प्रधानमंत्री मोदी ने इस बार 8 नवम्बर से भी बड़ा मास्टर स्ट्रोक मार दिया है और स्ट्रोक भी ऐसा कि जिसे सुनकर आप पागल भी हो सकते हैं। देश में चल रही नए नोटों की किल्लत को एक ही बार मे ख़त्म करने के लिए मोदी जी ने भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी ‘इसरो’ की मदद लेने का फैसला किया है। कल रात 8 बजे उन्होंने राष्ट्र को संबोधित करते हुए जानकारी दी कि “मित्रों, 500 और 2000 के नए नोटों से भरे 51 उपग्रह अंतरिक्ष में छोड़े जायेंगे, जो कि उचित ऊंचाई पर जाकर 31 दिसम्बर की मध्य रात्रि को फट पड़ेंगे और भारत के कोने-कोने में नये नोटों को वर्षा करेंगे।”

note-warsha
31 दिसंबर की मध्य-रात्रि का डेमो

“इस महत्वाकांक्षी और ‘फुलप्रूफ’ योजना को सफल बनाने में मुझे आपका सहयोग चाहिए। भाइयों-बहनों, कृपया 31 दिसम्बर को आप सब अपना-अपना आधार और पैन कार्ड लेकर घरों की छतों और मैदानों में हाथ ऊपर करके खड़े रहें, क्योंकि जब मध्य रात्रि को उपग्रह फटेंगे तब उनमें से निकले नोट खुद उड़ते हुए आएंगे और उनमे लगी ‘स्मार्ट चिप’ आपके आधार और पैन कार्ड को पढ़ कर आपकी औकात का पता लगायेंगी और उसी हिसाब से नोट खुद-ब-खुद आपकी जेबों में घुस जायेंगे।” -मोदी जी ने मुट्ठी बांधते हुए कहा।

उनकी इस घोषणा के बाद से ‘इसरो’ में अफरा-तफरी का माहौल है क्योंकि नोटबंदी की तरह इस योजना को भी पूरी तरह गप्त रखा गया था और इसरो के अधिकारियों को भी इसकी ख़बर बाकी देशवासियों के साथ ही मिली है। तुरंत प्रभाव से इसरो के सभी कर्मचारियों की छुट्टियाँ निरस्त कर दी गयी हैं और डायरेक्टर से लेकर चौकीदार तक सभी को उपग्रह बनाने के काम में झोंक दिया गया है, इस उम्मीद के साथ कि समय पर 51 उपग्रह तैयार कर लिए जाएंगे।

मोदी जी की इस नयी दिमागी उपज से पहली बार बैंक कर्मी अछूते दिख रहे थे, पर उन्हें भी RBI ने जल्द ही नोटिफिकेशन निकाल कर लपेटे में ले लिया। अब जो भी देशवासी नोट वर्षा के दौरान बस या रेल में सफर कर रहे होंगे, उन तक नोट पहुँचने के लिये बैंक कर्मियों को टोल नाकों और रेल पटरियों के सहारे खड़े होकर खिड़कियों में से नोट अंदर फेंकने होंगे, ताकि कोई भी देशवासी इस बे-मौसम धन-वर्षा से अछूता ना रह जाए।



ऐसी अन्य ख़बरें