Sunday, 19th November, 2017

चलते चलते

अरुण जेटली का जीवन परिचयः जो आपको 'गूगल' या 'विकीपीडिया' पर नहीं मिलेगा

13, Nov 2017 By Ritesh Sinha

नयी दिल्ली. वैसे तो हमारे वित्त मंत्री अरुण जेटली जी के बारे में ‘विकीपीडिया’ पर काफ़ी जानकारी मौजूद है। लेकिन वो जानकारी अधूरी और भ्रामक है, इस कारण उसे पढ़ने में मज़ा नहीं आता। इसलिए हम आपके लिए लेकर आए हैं, जेटली जी का जीवन परिचय। जन्म से लेकर आज तक इन्होंने क्या-क्या किया और क्या-क्या नहीं कर पाए, वो सब कुछ! तो पढ़िए उनका संपूर्ण जीवन परिचय-

Jaitley8
जेटली जी पैदा भी इसी मुख मुद्रा के साथ हुए थे

बचपन: देश के वर्तमान वित्त मंत्री अरुण जेटली का जन्म 28 तारीख को सन् 1952 में हुआ था। इस धरती पर आने के लिए इन्होंने इस दिन को इसलिए चुना, क्योंकि ’28’ में GST की खुशबू आती है। बिना फायदे के ये कोई काम नहीं करते, जन्म भी लिया तो 28 को! बचपन में ये ज्यादा हँसते नहीं थे, और इन्हें सिर्फ़ एक ही शौक था नोट गिनने का! जहाँ, दूसरे बच्चे अपने पापा से सबसे पहले साइकिल मांगते थे, वहीं इन्होंने गुल्लक मांगी थी। यानि, पैसे जमा करने का रोग इन्हें बचपन में ही लग गया था।

छात्र जीवन: 14-15 साल का होते ही इनमें कंजूसी के लक्षण दिखाई देने शुरू हो गए थे। दूसरों की कमाई पर हमेशा टेढ़ी नज़र रखते थे। जब उनके दोस्त कहते, “आज शाम को मैदान में आना, मैच खेलेंगे!” तो ये पहले कहते “आऊंगा!” बाद में मना कर देते। थोड़ी देर बाद फिर कहते, “आऊंगा!” और फिर से मना कर देते। हां/ना चलता रहता था। आगे चलकर इस कला का प्रदर्शन इन्होंने ‘नोटबंदी’ के समय किया था। जब हर घंटे नियम बदलकर इन्होंने इतिहास रच दिया था। ये अक्सर कहते थे कि, “मैं ऐसा काम करुंगा कि ये देश मुझे याद रखेगा!” और ऐसा हुआ भी! आज GST भरने वाले सारे व्यापारी दिन भर इन्हें ही याद करते-रहते हैं।

राजनैतिक जीवन: जिस दिन इन्होंने कॉलेज की डिग्री प्राप्त करने के लिए श्री राम कॉलेज में कदम रक्खा, उसी दिन ये फिक्स हो गया कि बंदा भाजपा का ही नेता बनेगा। आपातकाल के समय जेल भी गए थे, छूट गए। मोदी सरकार में मंत्री बनने के बाद नोटबंदी के समय जोक्स बनाने वालों को भारी मात्रा में रोज़गार दिया। फिर GST की बारी आई। ले-देकर संसद में पास तो करवा लिया, लेकिन अब गाड़ी धक्के खाकर ही चल रही है। समय निकालकर अरविन्द केजरीवाल के साथ मुकदमा भी लड़ रहे हैं। GDP के आंकड़े मुंह जबानी याद रहते हैं, मिडिल क्लास से पुरानी दुश्मनी है, सो निभा रहे हैं। आए दिन नया ‘सेस’ लगाते रहते हैं।

भविष्य का प्लान: भविष्य में केजरीवाल के खिलाफ केस जीतकर दस करोड़ अंदर करना चाहते हैं, आखिर दस करोड़ का सवाल है। वर्ल्ड बैंक में कोई बड़ा पद मिल जाए तो ‘ना’ नहीं करेंगे। अभी तो इन्हें सिर्फ़ इंडिया भुगत रहा है, फिर पूरे ‘वर्ल्ड’ की ख़ैर नहीं!



ऐसी अन्य ख़बरें