Wednesday, 23rd August, 2017

चलते चलते

छुट्टी के दिन घर में भी हाथ ऊपर करके खड़ा हो गया मुंबई लोकल का पैसेंजर

19, Apr 2017 By बगुला भगत

मुंबई. लोकल ट्रेन की धक्कामुक्की की वजह से मायानगरी में आये दिन कोई ना कोई ह्रदय-विदारक घटना होती रहती है। मीरा रोड में रहने वाले भावेश रावल नामक युवक को भी लोकल की वजह से अजीब बीमारी हो गयी है। भावेश मीरा रोड से दादर जाता है और पूरे सफ़र के दौरान लोकल में हाथ ऊपर करके खड़ा रहता है। इस आदत की वजह से वो संडे के दिन अपने घर में भी हाथ ऊपर करके खड़ा हो गया और तभी से हाथ ऊपर किये हुए है। बीच-बीच में वो “अंदर चलो”, “ऐ साइड से निकल ना” और “बैग आगे ले ना” बड़बड़ा रहा है।

Mumbai Local5
लोकल में हाथ ऊपर करके खड़ा भावेश (लाल घेरे में)

डॉक्टर का कहना है कि लोकल में लंबे समय तक हाथ ऊपर करने की वजह से भावेश को ये बीमारी हो गयी है। फिलहाल डॉक्टर ने उसके हाथ नीचे करके बांध दिये हैं और एक हफ़्ते की दवाई दे दी हैं। उन्होंने घरवालों को बोल दिया है कि नहाने और खाने के टाइम पे इसके हाथ खोल सकते हैं लेकिन फिर वापस वहीं बांधने होंगे।

भावेश की पत्नी सपना ने बताया कि इसका आभास तो उन्हें तभी गया था, जब एक दिन उन्होंने भावेश को रात में हाथ ऊपर करके सोते देखा था। “लेकिन तब मैंने इसे ज़्यादा सीरियसली नहीं लिया। लेकिन मुझे क्या पता था कि इनका ये हाल हो जायेगा।” फिर सुबकते हुए बोलीं- “हम वापस सूरत चले जायेंगे, हमें नहीं रहना मुंबई में!”

“इन्हें गप्पू का बड्डे याद नहीं है, हमारी मैरिज एनिवर्सरी याद नहीं है लेकिन ये याद है कि लोकल में सीट किस दिन मिली थी।” -गप्पू के सर पे हाथ फिराते हुए उन्होंने कहा।

“पिछले महीने बड़े ख़ुश थे और मिठाई का डब्बा लेकर आये थे। जब मैंने पूछा कि ‘क्या प्रमोशन हो गया है?’ तो बोले ‘नहीं पगली! उससे भी बड़ी चीज़ हुई है। आज मैं ट्रेन में बैठकर आया हूँ!’ बाद में पता चला कि इन्हें सीट इसलिये मिल गयी थी क्योंकि उस दिन इनके ऑफ़िस में छुट्टी नहीं थी, जबकि और सब लोगों की छुट्टी थी।” -भावेश को चम्मच से ढोकला खिलाते हुए वो बोलीं।



ऐसी अन्य ख़बरें