Wednesday, 25th April, 2018

चलते चलते

नीरव मोदी की चिट्ठी में शिकंजी का ज़िक्र, 'मोदीनगर के मशहूर शिकंजी' वालों के यहाँ मचा हड़कंप

21, Feb 2018 By shaukin lekhak

मोदीनगर. नीरव मोदी केस में उस समय नया मोड़ आ गया, जब उसने पीएनबी को भेजी अपनी चिट्ठी में रिश्वत के तौर पर शिकंजी देने का जिक्र किया और साफ़-साफ़ कहा कि जब तक बैंक शिकंजी का बिल नहीं चुकाएगा, तब तक वो बैंक का लोन वापस नहीं करेगा। नीरव की इस चिट्ठी ने हमेशा शांत और ठंडा रहने वाले मोदीनगर में भूचाल ला दिया है। यहाँ के व्यवसायी शिकंजी का देशव्यापी व्यापार ‘मोदीनगर की मशहूर शिकंजी ‘ के नाम से करते हैं लेकिन बहुत कम लोग जानते हैं कि यहाँ के व्यवसायी गुजराती मोदियों के दूर के रिश्तेदार लगते है, इसलिए इन शिकंजी व्यवसायियों में हड़कंप मचा हुआ है।

Modinagar- Police1
एक शिकंजी शॉप के बाहर तैनात पुलिस

इलाके के दरोगा जी ने फ़ेकिंग न्यूज़ को बताया कि “हमारे पास इंटेलिजेंस से खबर है कि कुछ मोदीनगर वाले नीरव मोदी की पार्टियों में शिकंजी सप्लाई करते थे, हम उनकी तलाश में हैं। हमने छापे में पकड़ी गयी शिकंजी के सैंपल सीबीआई से मंगवाए हैं, जिनका मिलान कर के हम दोषियों को पकड़ेंगे. बस एक बार शिकंजी आ जाए। अभी तक की जांच से एक बात तो साफ़ है कि बैंक के कर्मचारियों को झांसे में लेने के लिए जो पदार्थ पिलाया गया था, वो शिकंजी ही था, जिसे पीकर बैंक मैनेजर, कैशियर सब झूम उठे थे और एक स्वर में बोले थे- ‘एक गिलास मोदीनगर की मशहूर शिकंजी और मोदी के नाम’ यह घटना उस समय सीसीटीवी में दर्ज हो गयी थी जिसे सीबीआई ने ज़ब्त कर लिया है।”

आगे बताते हुए थानेदार जी ने कहा कि “हाल ही में नीरव के भागने के पहले उसने प्रियंका और हेडन जैसी देशी-विदेशी मॉडल्स के साथ शिकंजी पार्टी रखी थी, जिसके सबूत सीबीआई को मिल गये हैं और वे सैंपल भी वो यहाँ भेज रही है। हमारे पास अव्व्वल दर्जे के शिकंजी एक्सपर्ट हैं, जिन्होंने मोदीनगर के एक-एक व्यापारी की दुकान की शिकंजी चखी हुई है, उनसे कुछ छुप नहीं सकता, बस एक बार वे शिकंजी के सैंपल आ जायें!”

उधर, इस ख़बर से पूरे मोदीनगर मे हाहाकार मचा हुआ है। आलम ये है कि किसी से कुछ पूछो तो कहता है कि हम नीरव मोदी को नहीं जानते। कुछ लोगों ने तो अपने घर पर बोर्ड भी लगवा दिए हैं कि ‘हम नीरव के रिश्तेदार नहीं हैं’। शहर के व्यापारियों का कहना है कि जब से बैंक वालों और पुलिस वालों को हमारे कनेक्शन का पता चला है, वे तभी से धमकी दे रहे हैं कि अगर नीरव को जानते हो तो अभी भाग जाओ, बाद में हम तुम्हारी कोई मदद नहीं कर पाएंगे।

मोदी नगर में ही शिकंजी की ‘चेन ठेला’ (जैसे नीरव के हीरे के चैन स्टोर होते है ) चलाने वाले व्यवसायी मिठाई लाल सबसे ज़्यादा घबराये हुए हैं, वो कहते हैं- “एक तो जब से ये लिम्का, पेप्सी और सोडा वगैरह आ गये हैं, धंधा तभी से मंदा हो गया था, अब ससुरे ये नीरव का चक्कर, पैसा तो वो लेकर चला गया,  लोग पूछताछ हमसे कर रये हैं!”

मोदीनगर से निकलने वाली दुआएं और बद्दुआएं नीरव तक पहुंच रही हैं या नहीं, ये तो नहीं पता लेकिन नीरव ने बैंक को बता दिया है कि उसने जो इतने सालों से उनकी सेवा में विश्व-विख्यात शिकंजी के जाम पेश किये हैं, जब तक उनका बिल क्लियर नहीं करेंगे, तब तक वो बैंको का पैसा नहीं लौटाएगा और ना ही देश वापस आएगा, आख़िर धंधे का भी कोई उसूल होता है!



ऐसी अन्य ख़बरें