Monday, 26th June, 2017
चलते चलते

ईद पर मोदी की शुभकामनाओं से मुसलमानों की हालत में कोई सुधार नहीं हुआ- सर्वे

06, Aug 2014 By बगुला भगत

नयी दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ईद के मौक़े पर मुसलमानों को जो शुभकामनाएं दी थीं, उनसे मुसलमानों को कोई फ़ायदा नहीं हुआ है। फ़ायदा तो दूर, उल्टे कई लोगों को उससे नुकसान हुआ बताया जा रहा है। यह चौंकाने वाला खुलासा हाल ही में किये गये एक सर्वे में सामने आया है। यह सर्वे देश के एक प्रमुख न्यूज़ चैनल ने कराया है।

Modi
ईद वाला ट्वीट करते प्रधानमंत्री मोदी

इस खुलासे के बाद कांग्रेस ने बीजेपी पर हमला बोलते हुए कहा है कि, “देश के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है जब किसी पीएम ने मुसलमानों को शुभकामनाएं दीं और उनका कोई भला नहीं हुआ! वरना होता यह था कि इधर मुबारकबाद दी और उधर तुरंत फ़ायदा पहुंच जाता था।”

असल में, इस सर्वे की नौबत तब आयी, जब टीएमसी के सांसद सुदीप बंधोपाध्याय समेत कई विपक्षी सांसदों ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री ने ईद पर मुसलमानों को मुबारकबाद नहीं दी। इस पर संसदीय कार्य मंत्री वेंकैया नायडू को सफ़ाई देनी पड़ी कि पीएम ने ईद की मुबारकबाद दी थी। सबूत के तौर पर उन्होंने पीएम का मुबारकबाद वाला ट्वीट भी दिखाया।

अब मोदी समर्थक और मोदी विरोधी लोग इस मुद्दे पर आमने-सामने आ गये हैं। मोदी विरोधी खेमे का मानना है कि, “चूंकि मोदी सेकुलर नहीं हैं, इसलिए उनकी शुभकामना सिर्फ़ एक दिखावा थी। अब से पहले जितने भी प्रधानमंत्री हुए हैं, वे सभी दिल से मुसलमानों का भला चाहते थे। इसलिए उनकी हालत में सुधार आ जाता था।”

समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव ने भी मोदी के ट्वीट पर निशाना साधते हुए कहा है कि, “कित्ते वुसलवान व्हाई अग्रेजी संवजते हैं। बताओ हवैं। उस नेवाल के जीत वहादुर के लारै तो हिंदी में वीट कयते हैं औ अवने ई देस के वुसलवान व्हाईयों के लारै अंग्रेजी मैं! कित्ते सरम की वात है!”

उधर, वित्त मंत्री अरुण जेटली ने विपक्ष पर पलटवार करते हुए कहा है कि, “पहले तो ऐसा भी हुआ है कि शुभकामनाएं मुसलमानों को दी गयीं और फ़ायदा दूसरे लोगों को हो गया!” अपने इस दावे के समर्थन में उन्होंने कुछ आंकड़े भी पेश किये, जिनमें आज़ादी से लेकर अब तक मुसलमानों की स्थिति का ज़िक्र किया गया है।

इस बीच, ख़बर मिली है कि इस खुलासे के तुरंत बाद आरएसएस ने मोदी को नागपुर तलब किया और मुसलमानों से नजदीकी बढ़ाने पर फटकार लगाई। मोदी ने अपने बचाव में कह दिया कि, “उस दिन मेरा मोबाइल थोड़ी देर के लिये कहीं खो हो गया था, उसी दौरान किसी और ने मेरे मोबाइल से ये ट्वीट कर दिया।”



ऐसी अन्य ख़बरें