Saturday, 23rd September, 2017

चलते चलते

लोगों को देशभक्ति सिखाने के लिये राज ठाकरे खोलेंगे 'क्षेत्रीय राष्ट्रवाद विद्यापीठ'

11, Oct 2016 By Vinitendra Singh

मुंबई. राष्ट्रभक्ति की दौड़ में बाक़ी सभी पार्टियों को काफ़ी पीछे छोड़ चुकी महाराष्ट्र नव-निर्माण सेना (मनसे) ने आज एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा है कि “हाल में हुई कई घटनाओ से पता चलता है कि आज युवाओं में राष्ट्रवाद और देशभक्ति की भावना निम्न कोटि की होती जा रही है, यह पश्चिमी सभ्यता के प्रभाव के बहुत ही घातक लक्षण हैं। इसलिये हमने बिना किसी सोच-समझ के यह फ़ैसला लिया है कि महाराष्ट्र में ‘क्षेत्रीय राष्ट्रवाद विद्यापीठ’ की स्थापना की जाएगी। इस विद्यापीठ में केवल मराठी मानुष को ही दाखिला दिया जायेगा। यहाँ राष्ट्रवाद पर शोषण दोहन अन्वेषण कर डिग्री दी जाएगी। यह डिग्री स्वयं श्री श्री अरविन्द केजरीवाल द्वारा प्रमाणित होगी। जिसके लिये हमें U.G.C. जैसी किसी तुच्च प्रमाणक संस्था की आवश्यकता नहीं होगी।”

MNS4
यूपी-बिहार वालों को देशभक्ति सिखाने जाते राज ठाकरे

‘डेयर टू थिंक बियॉन्ड UGC’ का हवाला देते हुए मनसे के प्रवक्ता ने कहा कि “इस विद्यापीठ का पाठ्यक्रम इस प्रकार रचा गया है, जिससे विद्यार्थियों को राष्ट्रवाद और देशभक्ति की पूरी समझ मिल सके। चूंकि पकिस्तान विरोधी होना उच्चकोटि की देशभक्ति का उदाहरण है, इसलिए पाठ्यक्रम की प्रथम छमाही में जप माला के इस्तेमाल से ‘पकिस्तान मुर्दाबाद’ का जाप कराया जायेगा, जिससे सोयी हुई देशभक्ति उभर के आएगी (हालांकि सन्नी पाजी भी पाकिस्तान जिंदाबाद का नारा लगा चुके हैं जिसका हमें बेहद अफ़सोस है)। जप पर किये गए शोध के नतीजों से पता चलता है कि जप उच्चकोटि की देशभक्ति का प्रकाश प्रज्वलित करता है। अगर इसे नियमानुसार किया जाये तो परमवीर चक्र मिलने की सम्भावना बहुत बढ़ जाती है।”

प्रवक्ता ने आगे बताया कि “दूसरी छमाही में हम अपनी पार्टी का इतिहास पढ़ाएंगे। हमारा मानना है कि शिक्षा का स्तर निम्न से उच्च की ओर बढ़ना चाहिए।” फिर वो मुंबई में बिहार और यूपी-वासियों से जुड़ी घटनाओं की ओर इशारा करते हुए बोले “अगर कोई मनुष्य अपनी क्षेत्रीय संस्कृति की रक्षा नहीं कर सकता तो वो सच्चा राष्ट्रवादी और देशभक्त कैसे हो सकता है? इसीलिए हम दूसरी छमाही में ‘सो कॉल्ड कल्चरल एक्सचेंज’ (जिससे हमारे लोगों की नौकरी छिन जाती है) के खिलाफ युवाओं को जागरूक करने के लिए ‘बिहारी, यूपीवाला बायकॉट’ की पढाई कराएँगे। हालांकि ये एलीमेंट्री लेवल की पढाई है लेकिन राष्ट्रवाद और देशभक्ति के बेसिक्स इसी से मजबूत होते हैं।”

प्रवक्ता ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के अंत में कहा कि “मनसे हमेशा से ही राष्ट्रवाद और देशभक्ति के उच्च मानदंडों पर खरी उतरी है और चाहती है कि हमारी भावी पीढ़ी भी कुशलतापूर्वक इस परंपरा को आगे बढ़ाती रहे। तो मेरे साथ मिलकर ज़ोर से बोलिये- पकिस्तान मुर्दाबाद!”



ऐसी अन्य ख़बरें