Sunday, 19th February, 2017
चलते चलते

प्रॉपर्टी केस में 10 साल से बॉम्बे हाईकोर्ट के धक्के खाते आदमी ने जल्द सुनवाई के लिये अपना नाम "उठता पंजाब" रखा

14, Jun 2016 By बगुला भगत

मुंबई. भांडुप के रहने वाले मनोज सोनारे पिछले कई सालों से परेशान हैं। गाँव में उनकी ज़मीन पर कुछ बिल्डरों ने क़ब्ज़ा कर लिया था, जिसे छुडा़ने के लिये उन्होंने लगभग 10 साल पहले कोर्ट में केस दायर किया था। कोर्ट में सुनवाई पर कभी दूसरी पार्टी गैरहाज़िर होती तो कभी कोई गवाह! यह सिलसिला कई सालों तक चलता रहा और उन्हें सिर्फ़ तारीख़ पे तारीख़, तारीख़ पे तारीख़ मिलती रहीं।

court case
जल्दी फ़ैसला सुनाने से नाराज़ वकील नारेबाज़ी करते हुए

लेकिन कल ‘उड़ता पंजाब’ के केस में त्वरित सुनवाई देखकर मनोज के मन में उम्मीद जग गयी और उन्होंने अपना नाम मनोज सोनारे से बदलकर “उठता पंजाब” रखने का फ़ैसला कर लिया।

अपने फ़ैसले के बारे में फ़ेकिंग न्यूज़ को बताते हुए मनोज ने कहा कि “मैं पिछले 10 सालों से अपनी पुश्तैनी ज़मीन को छुडा़ने के लिये कोर्ट के चक्कर काट रहा हूँ लेकिन सुनवाई के सिवा मुझे कुछ नहीं मिला। लेकिन अब नाम बदलने से जज साब का ध्यान मेरे केस पे ज़रूर जाएगा।”

पहले उनके केस का नाम ‘मनोज सोनारे बनाम पप्पू ठाकुर था’, जो अब बदलकर ‘उठता पंजाब बनाम पप्पू ठाकुर’ हो जाएगा। उन्हें उम्मीद है कि ‘उठता पंजाब’ नाम देखकर शायद जज साब सोचें कि आज उन्हें फिर से फ्री में कोई मूवी देखने को मिलेगी और तुरंत सुनवाई कर के मेरे हक़ में फैसला सुना दें।

मनोज की देखा-देखी अब कई और याचिकाकर्ता भी यही तरकीब अपनाने की तैयारी में हैं। जबकि मनोज के ख़िलाफ़ केस लड़ रहे पप्पू ठाकुर ने मनोज पर जजों को अंधेरे में रखने का आरोप लगाते हुए केस को रद्द करने की मांग की है। कोर्ट के सारे वकील भी पप्पू का साथ दे रहे हैं। उनका कहना है कि “अगर सारे केसों में इतनी जल्दी फ़ैसला होने लगा तो हमारी अंधी कमाई रोज़ी-रोटी का क्या होगा!”

उधर, इस ख़बर के बाद पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने मनोज पर पंजाब का मज़ाक उड़ाने का आरोप लगाते हुए अपना नाम फिर से मनोज रखने के लिये कहा है।



ऐसी अन्य ख़बरें