Sunday, 19th November, 2017

चलते चलते

एक करोड़ की लॉटरी लगते ही युवक ने खरीदी नयी कार, पेट्रोल में हुआ सारा पैसा खर्च

15, Sep 2017 By Ritesh Sinha

भोपाल. अंकित साहू, को जब एक करोड़ की लॉटरी लगी तो उसकी ख़ुशी का ठिकाना ही नहीं था, उसकी जिंदगी एक झटके में बदल गई। उसके सारे सपने पूरे होने वाले थे। सबसे पहले तो उसने अपने लिए एक नयी कार खरीदी, और कुछ नये कपड़े भी खरीदे। शुरू से ही उसे कार में घूमने-फिरने का बेहद शौक था, तो वह हर दिन लॉन्ग ड्राइव पर जाने लगा। आसपास के सारे टूरिस्ट स्पॉट उसने अपनी कार में बैठकर देख डाले।

पेट्रोल भराने बेचनी पडी कार
पेट्रोल भराने बेचनी पडी कार

नयी कार आते ही उसने अपनी पुरानी साईकिल, घर के पिछवाड़े में फ़ेंक दी थी। छोटे-छोटे कामों के लिए भी वह कार लेकर ही घर से निकलता, और जब पेट्रोल भरवाने की बारी आती तो वो हमेशा टंकी फुल ही करवाता था। चूँकि, उसके पास अभी भी बहुत सारा पैसा था, तो वो कभी पेट्रोल की कीमतों की परवाह ही नहीं करता था। लेकिन उसे सरकार और पेट्रोल कंपनियों की ताकत का अंदाजा नहीं था।

घूमने-फिरने में उसे पता ही नहीं चला कि पेट्रोल भरवाने में कितना पैसा जा रहा है। वो तो बस अपने डेबिट कार्ड से पेमेंट करता गया। सरकार और पेट्रोलियम कंपनियों की मेहनत रंग लाई और अंकित दस दिनों में ही फिर से गरीब हो गया। महंगाई ने अंकित का तेल निकाल दिया। मजबूरी में अब उसे अपनी पुरानी साइकिल फिर से निकालनी पड़ी।

सुबह-सुबह जब वो अपनी साइकिल में जमी धूल साफ़ कर रहा था, उसी वक़्त बगल वाले गोयल अंकल उसके पास आकर बोले- “क्यों बेटा अंकित! आज कहीं घूमने नहीं जा रहे हो कार में?” अंकित पहले से परेशान था, यह सवाल सुनकर वह और भी गुस्से में आ गया- “मेरा दिमाग खराब मत करो! पेट्रोल का रेट पता है आपको! 80 की मिल रही है लीटर में! डंडी मारते हैं सो अलग! आज बिल देखा तो पता चला! पेट्रोल ना हुआ, सोना-चांदी हो गई! सारे पैसे ख़त्म हो गए मेरे!”- कहते हुए वह पैडल मारते हुए प्याज खरीदने चला गया।

उधर, कांग्रेस पार्टी ने एक बार फिर से एलान किया है कि वो इस मुद्दे को बिल्कुल “नहीं” उठाएंगे। कांग्रेस के वरिष्ठ प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि- “अभी फिलहाल हम मोदीजी की फ़ॉलोइंग लिस्ट चेक करने में व्यस्त हैं, जैसे ही हमें फुरसत मिलेगी, इन छोटे-मोटे मुद्दों को भी जरूर उठाएंगे! “



ऐसी अन्य ख़बरें