Monday, 21st August, 2017

चलते चलते

एक्सक्लूसिवः बजरंग दल के नेता को एक आशिक़ का ख़त

08, Feb 2017 By Ritesh Sinha

आदरणीय बाहुबली भुजंग जी, एरिया कमांडर (बजरंग दल)

सादर चरण स्पर्श!

Letter
बजरंग दल को ख़त लिखता आशिक़

आप मुझे नहीं जानते लेकिन मैं आपको बहुत अच्छी तरह से जानता हूँ। फरवरी के पवित्र महीने में आपको ख़त लिखने का कारण यह है कि मैं आपको धन्यवाद देना चाहता हूँ। दरअसल मेरा पिछले साल एक लड़की के साथ चक्कर चल रहा था। हम दोनों इसी फरवरी के महीने में अपने प्यार का इज़हार कर रहे थे। सब कुछ ठीक-ठाक चल रहा था। इसी बीच वैलेंटाइन-डे आ गया। हम दोनों वैलेंटाइन-डे के दिन एक पार्क में बैठे थे कि तभी आपके श्री चरण उस पार्क में पड़ गए। आपके वहां पहुँचते ही पता नहीं क्यों सभी प्रेमी जोड़े दुम दबाकर भागने लगे।

इस घटना के कुछ दिन बाद मेरी जिंदगी बर्बाद हो गयी। दरअसल वो लड़की, जिससे मैं प्यार करता था, किसी और के साथ भाग गई। जिसे मैं ड्रीम गर्ल की हेमा मालिनी समझ रहा था, वो डॉन की ज़ीनत अमान निकली! वो मेरी जिंदगी से चली गई। काश मैं भी उस दिन आपके हाथ लग जाता तो आप मुझे भी जमकर कूटते और मैं उस लड़की के प्यार में ना पड़ता। दरअसल मैं मूर्ख था, जो आपके इशारे को समझ नहीं पाया और आपका विरोध करके आग को पकड़ने चला गया। क्षमा प्रभु! क्षमा!

सुनता हूँ कि इस साल भी वैलेंटाइन-डे आ रहा है। पर मैं तो टूट चुका हूँ। प्यार में जब से धोखा खाया है, कुछ और खाने का मन ही नहीं करता। इस पत्र के साथ अपने दिल की फोटो-कॉपी संलग्न कर रहा हूँ। अब आप ही मेरे तारणहार हो।

मैं आपका रूप देखकर मोहित हो गया हूँ। आप ‘जिम’ के ब्रांड एम्बेसडर हैं। काला चश्मा भगवान ने केवल आपके लिए ही बनाया है। आप ही उसे धारण करने योग्य हैं। आपका ये केसरिया गमछा सूर्य की भांति चमकता है। छोटी बांह की कमीज में आप झक्कास लगते हैं। आपकी महिमा का बखान ये टूटा हुआ आशिक़ अपनी वाणी से नहीं कर सकता। त्राहिमाम प्रभु!

आखिर में एक सवाल! जिस प्रकार पुलिस वाले होली के दिन ड्यूटी करके उसके एक दिन बाद होली मनाते हैं, क्या आप भी 14 फरवरी को अपनी ड्यूटी पूरी करके 15 फरवरी को वैलेंटाइन-डे मनाते हैं?

आपके आशीर्वाद का आकांक्षी,

आशिक कुमार



ऐसी अन्य ख़बरें