Tuesday, 24th October, 2017

चलते चलते

मैं तो लंदन के हिसाब से दे रहा था वकील को फ़ीस, ताकि दिल्ली लंदन बन जाए: केजरीवाल

08, Apr 2017 By Ritesh Sinha

नयी दिल्ली. मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने अब जाकर खुलासा किया है कि मानहानि के केस में वे जनता के टैक्स के पैसे को क्यों खर्च कर रहे थे। उनका कहना है कि राम जेठमलानी की महंगी फीस से दिल्ली वालों को घबराने की कोई जरूरत नहीं है, बल्कि इससे तो दिल्ली वालों की क़िस्मत चमक जायेगी।

Kejriwal3
“दिल्ली को लंडन बनवाना है कि नहीं, बोलो!”

जब उनसे पूछा गया कि “पब्लिक की क़िस्मत कैसे चमक जायेगी?” तो मुख्यमंत्री जी ने विस्तार से बताया कि “देखो जी! हमने MCD चुनाव को देखते हुए ये वादा किया है कि अगर हमारी पार्टी जीत गयी, तो हम दिल्ली को लंदन बना देंगे। हमने जीतने से पहले ही अपना चुनावी वादा पूरा करना शुरू कर दिया है। इसीलिए हम जेठमलानी जी को लंदन के वकीलों के रेट के हिसाब से पेमेंट कर रहे हैं। अब दिल्ली में हर काम लंदन के रेट पे ही होगा जी! बस, इतनी सी बात पे बखेड़ा खड़ा कर दिया।”

“फिर भी, एक पेशी के 22 लाख रूपए कुछ ज्यादा नहीं है? इतनी महंगाई तो लंदन में भी नहीं होगी…” यह कहने पर वो भड़क गए और बोले- “तुम्हें लंदन में रहना है कि नहीं? हम इमानदारी से दिल्ली को लंदन बनाने की कोशिश कर रहे हैं, तो तुम हमें काम नहीं करने दे रहे। लगता है तुम EVM की हैकिंग में भी शामिल हो।” -कहते हुए वे उठे और वहां से चलते बने।

उधर, दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने केजरीवाल से इस्तीफे की मांग की है। उन्होंने एक प्रेस कांफ्रेंस करके उन्हें जवाब दिया कि “देखिए! हम दिल्ली को लंदन बनने ही नहीं देंगे, क्योंकि इसे तो न्यूयॉर्क बनाने की कसम हम तीन साल पहले ही खा चुके हैं। वो तो बस ये करें कि तुरंत इस्तीफ़ा दें और रास्ता खाली करें।” इस्तीफ़ा मांगने के बाद तिवारी जी ने चार-पांच भोजपुरी गाने सुनाये और पत्रकारों को विदा किया।



ऐसी अन्य ख़बरें