Thursday, 22nd June, 2017
चलते चलते

केजरीवाल जी के राशन का बिल विधानसभा में पेश, खांसी की दवाई से लेकर छोले-कुलचे तक का खर्चा शामिल

07, Apr 2017 By Ravi Raj

नयी दिल्ली. अंतरराष्ट्रीय स्तर के मुख्यमंत्री श्री अरविन्द केजरीवाल के घर के राशन का अति महत्वपूर्ण बिल आज दिल्ली विधानसभा में पेश किया गया। इस बिल में कई सारी चीज़ें जैसे- एक साल पुरानी खांसी की दवाई, छोले-कुलचे, मल्टीप्लेक्स के टिकट, मोदी जी के नाम की माला, मोदी जी के नाम उच्चारण वाली कैसेट, एक टन रायता वगैरह शामिल हैं। दिल्ली सरकार की अति विशिष्ट मंत्रिमंडलीय समिति ने इस बिल को पिछले हफ्ते पास कर दिया था, जिसके बाद इसे आज विधानसभा में पेश किया गया।

DelhiAssembly
विधानसभा में राशन का बिल पेश करते उप मुख्यमंत्री सिसोदिया

इस बिल के पेश किये जाने के दौरान बीजेपी के गिने-चुने तीनों सदस्यों ने विधानसभा में खूब हंगामा किया। विजेंदर गुप्ता जी ने बेंच पे खड़े होकर खूब हल्ला करते हुए बिल की प्रतियों को फाड़ा और हवा में उछाला। उनका कहना था कि “राशन के बिल वगैरह तो केजरीवाल जी की निजी जरूरत की चीज़ें हैं, इनके पैसे वो दिल्ली की आम जनता के टैक्स से कैसे ले सकते हैं?”

इस पर जवाब देते हुए उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि “हमारे मुख्यमंत्री सिर्फ़ एक इंसान नहीं हैं. बल्कि एक सोच हैं। उनकी कोई भी चीज़ निजी नहीं है। सब कुछ सार्वजनिक है।” इस पर केजरीवाल जी ने उन्हें आंखें दिखायीं तो सिसोदिया जी ने बात को बदलकर कहा कि “मुख्यमंत्री जी ने जो भी चीज़ें इस्तेमाल की हैं, वे सबके सामने सार्वजनिक रूप से की हैं इसलिये इनका बिल भी सार्वजनिक खाते में जाना चाहिये ना कि उनके पर्सनल खाते में!” विधानसभा में बहुमत होने की वजह से ये बिल ध्वनि मत से पारित हो गया। हालाँकि विजेंदर जी को एक बार फिर चार कन्धों पर उठाकर बहार ले जाना पड़ा।

इस बिल के पास होते ही बीजेपी ने पूरे देश में हंगामा शुरू कर दिया है। हमारे सूत्रों के अनुसार, गृह मंत्रालय से एलजी ऑफ़िस को ताबड़तोड़ फ़ोन किये जा रहे हैं। मीडिया वालों के पूछने पर केजरीवाल जी ने गरजकर कहा कि “मुख्यमंत्री मैं अपने घर का हूँ या पूरी दिल्ली का! तो राशन के पैसे भी पूरी दिल्ली को ही देने चाहिये।” उधर, यह खबर सुनकर केजरीवाल जी के परचून वाले को अपना उधार वापस मिलने की उम्मीद बढ़ गयी है।



ऐसी अन्य ख़बरें