Saturday, 23rd September, 2017

चलते चलते

सुरेश प्रभु ने कहा ''केवल ट्विटर पर समस्याएं सुलझाना ही हमारा काम, एक्सीडेंट रोकना नहीं''

23, Aug 2017 By banneditqueen

दिल्ली. आज कैफियत एक्सप्रेस के 20 डब्बे पटरी से उतर गए, कुछ दिन पहले उत्तर प्रदेश में ही उत्कल एक्सप्रेस के एक्सीडेंट में तीस लोगों की जान गयी थी। जब से सुरेश प्रभु रेल मंत्री बने हैं आपने बस उनकी तारीफ़ ही सुनी होगी। कभी कोई डायपर मंगा रहा है, कभी कोई बच्चे के लिए दूध, और सुरेश प्रभु उसे तुरंत वो सारा सामान पहुंचा कर वाह वाही पाते रहे हैं।

ट्विटर के अलावा ना कुछ  सुनाई देता है ना दिखाई देता है
ट्विटर के अलावा ना कुछ सुनाई देता है ना दिखाई देता है

चार दिनों में दो घटनाएं होने के बाद जो जनता कल तक उनके ट्विटर अकाउंट पर वाह वाही बरसा रही थी, आज उनसे जवाब मांग रही है। इस पर सुरेश प्रभु ने ट्वीट कर कहा ”मैं उन सभी से सहानुभूति रखता हूँ जो कि इस घटना में मारे गए हैं या घायल हुए हैं। पर मैं आप सभी को यह बताना चाहता हूँ कि अगर मुझे लाइनमैन ने ट्वीट कर जानकारी दी होती कि उस रेलवे लाइन पर मरम्मत का काम चल रहा है तो मैं इस घटना को होने से रोक पाता। हमारा काम केवल ट्विटर पर जवाब देने तक सीमित है। कोई भूखा-प्यासा हो तो उसकी मदद करने के लिए हम हमेशा हाज़िर हैं पर ऐसी घटनाओं को हम तब तक नहीं रोक सकते जब तक हमें ट्वीट कर इसकी जानकारी न दी जाए।”

सुरेश प्रभु ने यह भी कहा है कि ”सभी रेलवे कर्मचारी ट्विटर पर अपना अकाउंट बनवा ले और जो भी समस्याएँ हैं मुझे सीधे ट्वीट करें मेरे बॉट्स आप तक तुरंत पहुँच जाएंगे।” ट्रेन और प्लेटफार्म पर गंदगी की समस्या हो या कोई भी और परेशानी हो सभी का निवारण ट्विटर पर ही होगा।



ऐसी अन्य ख़बरें