Wednesday, 22nd November, 2017

चलते चलते

चुनाव नतीजों से पहले BJP की हार के लिये नोटबंदी को जिम्मेदार ठहराने वाला पत्रकार सदमे में

24, Feb 2017 By banneditqueen

एजेंसी. मशहूर अखबार लाइज़ ऑफ इंडिया के पत्रकार निखिल कुकरेजा को कल अस्पताल में भर्ती करना पड़ा।| बताया जाता है कि जैसे ही बीएमसी चुनाव के नतीजे आए वैसे ही उनकी तबियत बिगड़ गई।

अस्पताल में भर्ती निखिल
अस्पताल में भर्ती निखिल

साथी पत्रकार विमल जोसेफ ने बताया कि “कल सुबह निखिल काफी खुश नज़र आ रहा था। शुरूआती रुझान शिवसेना की तरफ था। हम यही डिस्कशन कर रहे थे कि इस बार बीजेपी की हार पक्की है। निखिल और मैं कई रातों से यही अनुमान लगा रहे थे कि किस पार्टी को कितनी सीटें मिलेंगी। हम दोनों कॉन्फिडेंट थे कि बीजेपी किसी हालत में नहीं जीतेगी। जितने गरीब एटीएम की लाइनों में खड़े थे, जितने लोगों की उन लाइनों में जान गई उन सब के परिवार वालों की बद्दुआ लगेगी। पर पता नहीं कैसे शाम होते तक बीजेपी को बढ़त मिल गई, जैसे ही रिज़ल्ट डिक्लेयर हुआ वैसे ही निखिल की तबियत बिगड़ गई। वो सीने पर हाथ रखकर चिल्लाने लगा और अचानक बेहोश हो गया।”

अस्पताल में भर्ती निखिल को जैसे ही होश आया फेकिंग न्यूज़ टीम ने उनसे बात करने की कोशिश की। निखिल ने बताया कि “पिछले 3 महीनों से दिन रात एक कर के मैं बी.जे.पी. द्वारा किये गए आम जनता पर अत्याचार के खिलाफ सबूत इकठ्ठा कर रहा था। हज़ारों लोगों से बात कर इंटरव्यू लिये, मुझे इस बात पर पूरा विश्वास था कि बीजेपी हारेगी। मैंने कल के अखबार के लिये लगभग तीन पन्नों की सामग्री तैयार रखी थी, अब सारी मेहनत बेकार हो गई। मैं इन सब बातों के बारे में सोच रहा था, तभी याद आया कि आने वाले चुनावों के लिये भी पहले से आर्टिकल लिख रखे हैं। आखिर खुशी होती है जब आपकी कही हुई बात सच निकले। इतना टेंशन हो गया अचानक शायद उस कारण से दिल का दौरा पड़ गया। अब बस आशा ही कर सकता हूँ कि बीजेपी हार जाए।



ऐसी अन्य ख़बरें