Wednesday, 25th April, 2018

चलते चलते

इंदौर के एक घर में सब्ज़ियाँ ख़त्म होने पर नहीं बनती सेव की सब्ज़ी, सरकार करेगी सम्मानित

28, Mar 2018 By banneditqueen

इंदौर. पोहे जलेबी के लिए मशहूर इंदौर शहर अपने लाजवाब खाने के लिए तो जाना ही जाता है पर यहाँ के लोगों में भी खाने के प्रति दीवानगी भी अद्भुत है। आलम यह है की यहां लोग चार बजे ही गीता भवन जाकर पोहे खाने के लिए उठ जाते हैं। इंदौर की शायद ही कोई ऎसी गली होगी जिसमे पोहे जलेबी की दुकान न हो और शायद ही कोई ऐसा ठेला होगा जिसके खाने में स्वाद न हो। पर पोहे जलेबी के अलावा इंदौर की एक और खासियत है वो है ”सेव”! जी हाँ सेव !

इंदौरी होकर नहीं खाई सेव की सब्ज़ी
इंदौरी होकर नहीं खाई सेव की सब्ज़ी

इंदौर की गलियों में आपको लगभग हर जगह एक सामग्री मिलेगी और वो है सेव, मोटे/पतले लौंग वाले अजवाईन वाले तरह तरह के सेव। यही नहीं इंदौरी सेव को केवल पोहे के ऊपर नहीं डालते बल्कि वे घर में कोई सब्ज़ी न होने पर इसकी सब्ज़ी भी बना लेते हैं। इंदौर में शायद ही कोई ऐसा घर होगा जहाँ ये काम नहीं होता। पर इंदौर में रहने वाले व्यास परिवार के घर आजतक ऐसा नहीं हुआ। जब फेकिंग न्यूज़ को यह खबर मिली तो हमारे संवाददाता ने व्यास परिवार की शीला व्यास से बातचीत की।

शीला व्यास ने बताया कि हमारे घर से कुछ मीटर दूरी सब्ज़ी बाज़ार है, इसलिए कभी सब्ज़ी ख़तम हो जाए ऐसी नौबत ही नहीं आई। और वैसे भी सुबह पोहे में सेव डालता ही है तो दुबारा खाने का क्या मतलब।” जब यह खबर मध्य प्रदेश सरकार को लगी तो उन्होंने व्यास परिवार को इस साहसिक कार्य के लिए सम्मानित करने का फैसला लिया। इस वर्ष पंद्रह अगस्त को पूरे व्यास परिवार को भोपाल के लाल परेड मैदान में सम्मानित किया जाएगा।



ऐसी अन्य ख़बरें