Thursday, 14th December, 2017

चलते चलते

मरीज़ ने हॉस्पिटल पहुँचने से पहले ही दम तोड़ा, हॉस्पिटल ने थमाया सिर्फ़ 34 लाख का बिल

04, Dec 2017 By Pagla Ghoda

मुंबई. कलकोटिया एंड फ़ैमिली को अपने बाबूजी की मृत्यु का दुःख तो था, परंतु हॉस्पिटल ने केवल 34 लाख का बिल बनाया, इस बात से उनके दिल में एक सुकून भी था। गत शाम परिवार के बड़े बाबूजी हॉस्पिटल ले जाते समय ही एंबुलेंस में ही प्रभु को प्यारे हो गए। शहर के जाने माने हॉस्पिटल ब्लू मैंगो हेल्थकेयर सेंटर‘, जिसकी वो एंबुलेंस थी, ने बिल परिवार को इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से भेज दिया, जिसमें कि कम दरों पर EMI द्वारा पेमेंट करने के आसान ऑप्शन भी हैं।

 

max-hospital-delhi
हॉस्पिटल के बाहर तैनात पुलिस

परिवार के बड़े बेटे प्रमोद ने आँसू पोंछते हुए बताया, “बाबूजी की मौत पे तो हम कल ही रो लिए थे। ये जो आप अभी देख रहे हो वो तो ख़ुशी के आँसू हैं। ये हॉस्पिटल वाले नहीं हैं, ये तो फ़रिश्ते हैं फ़रिश्ते! हम तो सोच रहे थे कि बिल करोड़ों में आएगा, लेकिन एंबुलेंस का पेट्रोल, स्ट्रेचर की मेंटिनेन्स, सफ़ेद चादर की धुलाई, वार्ड बॉय के ग्लव्ज़, एंजेक्टीयों, दवाइयाँ और कन्विनिएंस चार्जेज़ मिलाकर सिर्फ़ तैंतीस लाख पिचानवे हज़ार दो सौ बयासी रुपए का बिल है। मैंने मकान गिरवी रख कर पर्सनल लोन के लिए अप्लाई कर दिया है, मिलते ही हस्पताल की एक-एक कौड़ी चुका दूँगा!”

 

ब्लू मैंगो हेल्थकेयर के CEO श्री रोज़ादिगार सोगलेश जो कि सुबह ही अपने प्राइवेट जेट से हांगकांग से लौटे हैं, उन्होंने भी मरीज़ की मृत्यु पर काफ़ी अफ़सोस व्यक्त किया। उन्होंने कहा, “बहुत दुःख हुआ सुनकर के वो एंबुलेंस में ही चल बसे। मुझे बहुत शिकायत है मृतक से, अरे एक बार हमारे हॉस्पिटल में घुस तो जाते। एक बार मेन गेट भी पार कर लेते ना, तो हम उन्हें मृत घोषित ही ना …. मेरा मतलब मृत होने ही ना देते, जान बचा लेते उनकी! लेकिन मछली फँसी ही … मेरा मतलब के मछली बची ही नहीं।

 

गहरे ब्राउन रंग के क्यूबन सिगार का एक गहरा कश लेते हुए श्री सोगलेश ने आगे कहा, “और जितने भी बूढ़े-बुज़ुर्ग बीमार चल रहे हैं, मैं उनसे एक विनम्र विनती करता हूँ कि आप ना हमारे यहाँ आ के आराम कीजिए प्लीज़! अगर ऊपर जाना है तो शान से जाओ, इत्मिनान से जाओ। हमारे प्लैटिनम प्लान वाले रूम का किराया केवल बाइस हज़ार प्रति रात्रि है, और तीनों टाइम की खिचड़ी-दलिया भी केवल पाँच सौ पच्चीस रुपए प्रति प्लेट के सस्ते दामों पर उपलब्ध है। और बिल की चिंता मत करो यार, सब आपके बच्चे इंतेज़ाम कर लेंगे, हमारी प्राइवेट मनी लेंडिंग कम्पनी ब्लू ऑरेंज फ़ायनेन्शियल सोल्यूशंसकी पर्सनल लोन दरें भी मार्केट से 0.25% कम ही हैं, तो उसका फ़ायदा उठाओ ना यार! अगर घर में दो बूढ़े बीमार है तो और भी अच्छी बात है, दोनो ही साथ आ जाइए, चूँकि हमारा वन प्लस वन का ऑफ़र केवल इकत्तीस तारीख़ तक ही है।



ऐसी अन्य ख़बरें