Wednesday, 20th September, 2017

चलते चलते

हामिद अंसारी ने कहा ''उर्दू देश की भाषा, राजनीति केवल संस्कृत और हिंदी पर होनी चाहिए''

16, Aug 2017 By banneditqueen

दिल्ली. कल एक समारोह में पूर्व राष्ट्रपति हामिद अंसारी ने कहा कि उर्दू पर हो रही राजनीति से वे बेहद खफा हैं। हाल ही में उन्होंने जब कहा था कि भारत का मुसलमान डरा हुआ है तब इस बयान पर काफी हंगामा हुआ। पर जब उनसे पूछा गया कि दक्षिण भारत में हिंदी के विरोध पर उनका क्या कहना है तो उनका बयान चौकाने वाला था।

hamid-ansari_650x400_41464509573हामिद अंसारी से फेकिंग न्यूज़ ने हिंदी पर चल रहे हंगामे को लेकर बातचीत की। अंसारी जी ने कहा ”उर्दू तो देश की धरोहर है, अभी कर्नाटक में भी केवल हिंदी का विरोध किया गया उर्दू का नहीं। इससे आप समझ सकते हैं कि हिंदी पर राजनीति करना ही सही है। आप ने ध्यान नहीं दिया जिन होर्डिंग्स पर कालिख पोती गयी उन सब पर उर्दू भी लिखी थी पर किसी ने चू तक नहीं की इससे पता चलता है कि दक्षिण भारत की जनता केवल हिंदी से परेशान है।”

कुछ वर्षों पहले संस्कृत भाषा को लेकर भी हंगामा हुआ था, उस पर भी अंसारी जी ने कहा ”जैसे हिंदी वैसे संस्कृत, दोनों ही भाषाएं विदेशी हैं। हमारी बोली तो केवल उर्दू और अंग्रेजी ही है। राजनीति सिर्फ हिंदी और संस्कृत भाषाओं पर हो, कोई अंग्रेजी या उर्दू या कोई और विदेशी भाषा जैसे जर्मन पर राजनीति करे वो  बर्दाश्त नहीं होगा।



ऐसी अन्य ख़बरें