Sunday, 19th November, 2017

चलते चलते

'सिगरेट पर टैक्स बढ़ा' यह सुनकर, युवक की आत्मा से निकली आवाज़-"बीड़ी से अच्छा कुछ भी नहीं!"

18, Jul 2017 By Ritesh Sinha

नयी दिल्ली. लगता है रक्षा मंत्री अरुण जेटली, पाकिस्तान और चीन का सारा गुस्सा सिगरेट पर ही उतार देंगे। उनके वित्त मंत्री वाले रूप ने सिगरेट पर ‘सेस’ की दर एक बार और बढ़ा दी, यानि GST के 28% टैक्स के अलावा यह नया ‘सेस’ अलग से लगाया गया है। नये ‘सेस’ की वजह से सिगरेट की लंबाई जितनी ज्यादा होगी, उस पर उतना ही ज्यादा टैक्स लगेगा। तो यदि आप पहले कोई लंबी सिगरेट पीया करते थे, तो जल्द ही उसका ‘राजपाल यादव वरशन’ खरीदना शुरू कर दीजिए।

cigarette8
ग़ुस्से में सिगरेट तोड़ता प्रशांत

इस ख़बर से सिगरेट पीने के शौक़ीन युवक नाराज हो गए हैं, वैसे ये नाराज होने के अलावा कुछ कर भी तो नहीं सकते। ऐसे ही एक युवक प्रशांत खरे ने जब यह खबर सुनी, तो वह अन्दर से हिल गया। अचानक से उसकी आत्मा से आवाज आई- “यार! बीड़ी से अच्छा कुछ भी नहीं!” अब प्रशांत ने कसम खाई है कि जब तक अरुण जेटली, ‘वित्त मंत्री’ रहेंगे तब तक वह बीड़ी पीकर ही काम चलाएगा।

उसने फ़ेकिंग न्यूज़ के सामने अपना गुस्सा जाहिर करते हुए कहा कि “साला! ये सिगरेट तो गली के आवारा कुत्ते की तरह हो गयी है। जो भी आता है, पत्थर मारकर चला जाता है। सोच रहा था कि GST आने के बाद थोड़ी राहत मिलेगी, लेकिन इन्होंने तो उसमें भी एक नया ‘सेस’ ठोक दिया। ये जेटली सिगरेट के पीछे इतना क्यों पड़ा हुआ है, मुझे समझ नहीं आता! इसे और कोई काम धंधा है कि नहीं?”

“आए दिन ये नया सेस मुझसे झेला नहीं जाता। इसलिये मैं तो अब बीड़ी में शिफ्ट हो रहा हूँ! वैसे, बीड़ी देखने में सुन्दर तो नहीं होती, लेकिन सस्ती और टिकाऊ ज़रूर होती है! और फिर सिगरेट में ये लंबाई का क्या नया चक्कर है? अब छोड़ो यार! मुझे तो पीनी है नहीं! एक कट्टा बीड़ी लूँगा, तीन दिन तो चल ही जाएगी!” इसके आलावा प्रशांत, बीड़ी पीने की कला सीखने के लिए, यूपी का एक छोटा सा दौरा करने का भी प्लान बना रहा है।



ऐसी अन्य ख़बरें